एक्सप्रेस वे से लेकर स्कूल-कॉलेजों से जुड़े इन फैसलों पर योगी सरकार की मुहर, गन्ने की कीमत नहीं बढ़ी

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 2nd Sep 2021, 1:51 PM IST
  • उत्तर प्रदेश सरकार की आज लखनऊ में 2 सिंतबर को कैबिनेट की अहम बैठक हुई और इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे. खबर थी कि योगी सरकार की इस कैबिनेट की अहम बैठक में गन्ना मूल्य बढ़ाए जाने पर भी फैसला हो सकता है. हालांकि यूपी सरकार ने फिर इस मुद्दे पर ध्यान नहीं दिया है.
योगी सरकार की कैबिनेट बैठक में नहीं बढ़ी गन्ने की कीमत (फाइल फोटो)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में लखनऊ में यूपी सरकार की कैबिनेट बैठक हुई. इस बैठक में कई अहम प्रस्तावों को मंजूरी मिली है. हालांकि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने गन्ना किसानों की तरफ फिर भी ध्यान नहीं दिया है. लखनऊ में सीएम योगी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट मीटिंग में गंगा एक्सप्रेस-वे के RFQ और RFP को मंजूरी मिली है. इसके साथ 16 जिलों में PPP मॉडल पर मेडिकल कॉलेज खोलने को मंजूरी मिली है. वहीं योगी सरकार ने एक बार फिर से गन्ना किसानों को निराश किया है. कुछ दिन पहले यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था गन्ना बकाए का भुगतान नए पेराई सत्र से पहले होगा और गन्ने का मूल्य भी बढ़ेगा. इसके साथ ही यूपी के किसानों पर पराली जलाने के दर्ज केस भी वापस होंगे.

गन्ना किसानों को योगी सरकार की इस कैबिनेट मीटिंग से काफी उम्मीद थी कि सरकार अगले पेराई सत्र के लिए गन्ना मूल्य बढ़ाए जाने पर भी फैसला ले सकती है. क्योंकि हाल ही में केन्द्र सरकार ने गन्ना किसानों के लिए आगामी पेराई सत्र के लिए गन्ने का उचित एवं लाभकारी मूल्य (एफआरपी) 285 रुपये से बढ़ाकर 290 रुपये प्रति कुंतल करने का फैसला लिया था.

UP में घर बैठे पढ़े लिखे बेरोजगारों को योगी सरकार दे रही भत्ता, ऐसे मिलेगा पैसा

यूपी के गन्ना किसान काफी समय से गन्ने की कीमत 400 रुपये प्रति क्विंटल किए जाने की मांग कर रहे हैं. गन्ने की कीमत बढ़ने की मांग कर रहे किसानों का कहना कि गन्ने की फसल के लिए 300 रुपये प्रति क्विंटल की लागत लगती है. फसल की कीमत हमें अधिकतम 325 रुपये प्रति क्विंटल मिलती है इसलिए गन्ने की कीमत को बढ़ाया जाए. यूपी में इस समय गन्ने की कीमत को तीन वैराइटी में रखा गया है, जिसमें किसानों को गन्ने की कीमत 310 रुपये, 315 रुपये और 325 रुपये मिल रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें