लखनऊ: धान खरीद में अनियमितता पर योगी सरकार बेहद सख्त, पांच प्रभारी निलंबित

Smart News Team, Last updated: 22/10/2020 01:30 PM IST
  • लखनऊ में धान खरीद में अनियमितता पर योगी सरकार बेहद सख्त हो गया है. इस मामले में पांच प्रभारी निलंबित कर दिए गए हैं. आठ प्रभारियों समेत 10 के खिलाफ गंभीर धाराओं में एफआईआर की गई है. चार को प्रतिकूल प्रविष्टि दी गई और साथ ही 21 को चेतावनी और 178 को नोटिस भेजा गया है.
धान खरीद में अनियमितता पर योगी सरकार बेहद सख्त हो गई है. इस मामले में पांच प्रभारी निलंबित कर दिए गए हैं.

लखनऊ. धान खरीद में अनियमितता को लेकर यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार का रुख बेहद कड़ा है. शासन स्तर पर ऐसी हर शिकायत का संज्ञान लिया जा रहा है और संबंधित के खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी की जा रही है. इस क्रम में क्रय केंद्रों के आठ प्रभारियों समेत 10 लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज की जा चुकी है. बरेली मंडल के पांच केद्र प्रभारियों को निलंबित किया जा चुुका है. 

चार केंद्र प्रभारियों के खिलाफ प्रतिकूल प्रविष्टि, 21 के खिलाफ चेतावनी और 178 के खिलाफ कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है. कुल मिलाकर अब तक 208 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जा चुकी है. जिन क्रय केंद्र के प्रभारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है उनमें पीलीभीत के 3, बरेली, कानपुर नगर, हरदोई के एक-एक, शाहजहांपुर के दो हैं. इसके अलावा हरदोई के एक बिचौलिये और अन्य व्यक्ति के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गई है.

यूपी में जल्द लागू होंगे चार नए श्रम कानून, महिलाएं भी कर सकेंगी नाइट शिफ्ट

मालूम हो कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहले ही कह चुके हैं कि हर किसान के धान का एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) पर धान खरीदा जाना चाहिए. इसके लिए संबधित जिले के डीएम जवाबदेह होंगे. इस क्रम में खरीफ के मौजूदा सीजन में अब तक 21 हजार से अधिक किसानों से 1542566 कुंतल धान की खरीद की जा चुकी है. कृषि विभाग के पोर्टल पर अब तक 477121 किसानों ने अपना पंजीकरण कराया है. इनमें से 293073 का सत्यापन भी हो चुका है.

लखनऊ: 80 हजार हड़पकर सर्जरी के नाम पर किया धोखा, राज खुलने पर हंगामा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें