CM योगी का बड़ा फैसला- UP के मेडिकल कॉलेजों में 8 मई से लागू होगी ई-ओपीडी

Smart News Team, Last updated: Fri, 7th May 2021, 8:52 PM IST
  • कोरोना को लेकर यूपी में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोविड को लेकर टीम-9 के साथ मीटिंग की. सीएम ने 8 मई से प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में ई-ओपीडी व्यवस्था लागू करने के आदेश दिए हैं.
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड को लेकर अधिकारियों के साथ मीटिंग की.

लखनऊ. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 8 मई से प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में ई-ओपीडी की व्यवस्था लागू की जाए. सीएम ने कहा कि हर जिले में इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में अलग-अलग कामों, टेलीकंसल्टेशन और आइसोलेशन बेड की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए अलग-अलग प्रभारी नियुक्त किए जाएं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कोविड को लेकर टीम-9 के साथ मीटिंग की है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने होम आइसोलेशन और नॉन कोविड मरीजों को ऑक्सीजन की सप्लाई को लेकर बड़ा फैसला लिया है. सीएम ने कहा कि कई जिलों ने इस दिशा में अच्छा काम किया है. ऐसे ही सभी जिलों में होम आइसोलेशन के मरीजों को ऑन डिमांड ऑक्सीजन की आपूर्ति की व्यवस्था कराई जाए. इसके लिए उन्होंने अधिकारियों को जल्द एक सिस्टम तैयार कर पूरा कराने के निर्देश दिए हैं.

UP में बीमार, दिव्यांग और गर्भवती कर्मचारी को वर्क फ्राॅम होम की सुविधा: CM योगी

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वर्तमान में 89 टैंकर ऑक्सीजन से संबंधित कार्य में एक्टिव हैं. भारत सरकार ने प्रदेश को 400 मीट्रिक टन के टैंकर दिए है. रिलायंस और अडानी जैसे निजी औद्योगिक समूहों की ओर से टैंकर उपलब्ध कराए गए हैं. उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन के संबंध में टैंकरों की संख्या और बढ़ाए जाने की जरूरत है. क्रायोजेनिक टैंकरों से संबंधित ग्लोबल टेंडर जारी करने की कार्यवाही कल तक पूरी कर ली जाए.

लखनऊ में एंबुलेंस के रेट तय, कोरोना मरीज से नहीं वसूले जाएंगे मनमाने पैसे

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सरकारी और प्राइवेट ऑफिस में बीमार, दिव्यांग और गर्भवती महिला कर्मचारी को वर्क फ्रॉम सुविधा देने का आदेश दिया है. इन लोगों के लिए दफ्तर आने की कोई भी अनिवार्यता नहीं होगी. सीएम ने कहा सभी सरकारी कार्यालयों में 50 फीसदी कर्मचारियों से ही कार्य लिया जाए. एक समय में एक तिहाई से ज्यादा कर्मचारी कतई उपस्थित न रहें.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें