CM योगी का आदेश- दवा की कालाबाजारी में शामिल मेडिकल स्टाफ की डिग्री होगी सस्पेंड

Smart News Team, Last updated: Tue, 18th May 2021, 5:24 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि रेमडेसिवीर समेत किसी भी जीवन रक्षक दवा की कालाबाजारी में शामिल मेडिकल या पैरामेडिकल स्टाफ की डिग्री सस्पेंड होगी. सीएम योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को टीम 9 के साथ मीटिंग की है.
सीएम योगी आदित्यनाथ ने रेमडेसिवीर जैसी जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी को लेकर पदाधिकारियों को निर्देश दिए.

लखनऊ. कोरोना संक्रमण के बीच रेमडेसिवीर जैसी दवाओं की कालाबाजारी की घटनाएं सामने आ रही है. इस पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आदेश देते हुए कहा कि रेमडेसिवीर समेत किसी भी जीवन रक्षक दवा की कालाबाजारी में शामिल मेडिकल या पैरामेडिकल स्टाफ की डिग्री सस्पेंड होगी. कोविड को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को टीम 9 के साथ बैठक की.

इस मीटिंग में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि रेमडेसिवीर समेत किसी भी जीवनरक्षा दवा की कालाबाजारी में संलिप्त लोगों के खिलाफ एनएसए जैसे कठोर कानून के मुताबिक कार्रवाई की जाए. इस मीटिंग में सीएम ने कहा कि प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों से ओवरचार्जिंग की शिकायत आ रही है. निजी अस्पतालों पर निगरानी रखी जाए और शिकायत मिलने पर कार्रवाई की जाए.

प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना मरीजों से ओवरचार्जिंग पर हो कड़ी कार्रवाई: CM योगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि जिलाधिकारी और सीएमओ ये सुनिश्चित करें कि कोविड और नॉन कोविड मरीजों के निधन के बाद उनके परिजनों को मृत्यु प्रमाण पत्र लेने में कोई कठिनाई न हो. सीएम ने कहा कि यदि मृत्यु कोविड से हुई तो उसका साफ-साफ जिक्र किया जाए. उन्होंने पदाधिकारियों को इस बारे में शासनादेश जारी करने के निर्देश दिए.

यूपी परिवहन विभाग की अंतरराज्यीय बस सेवाओं पर रोक, 5 जून तक रहेगा प्रतिबंध

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण की तीव्रता मंद हो रही है. प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर अब 90.6 फीसदी हो गई है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 8 हजार 727 नए मामले सामने आए हैं. वहीं 21 हजार 108 लोग इलाज के बाद पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कुल एक्टिव मामलों की संख्या 1 लाख 36 हजार 342 हो चुकी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें