कोरोना से जंग को तैयार योगी सरकार, हर जिले में बनेगा महिला और बच्चों का अस्पताल

Smart News Team, Last updated: Sun, 16th May 2021, 3:39 PM IST
  • सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा की 'तीसरी वेव की आशंका व्यक्त की जा रही है, इस पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए प्रदेश सरकार ने अभी से अपनी कार्ययोजना बनानी शुरू की है.
कोरोना से जंग को तैयार योगी सरकार, हर जिले में बनेगा महिला और बच्चों का अस्पताल

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना को लेकर स्थिति में पहले से कुछ सुधार हुआ है. संक्रमितों की संख्या में भी धीरे-धीरे कमी आ रही है. कोरोना की दूसरी लहर से जो स्थिति खराब हुई थी और सब कुछ सरकार के नियंत्रण से बाहर चला गया था, इसको देखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ काफी सचेत नजर आ रहें हैं. 

कोरोना वायरस के तीसरी लहर से निपटने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा की 'तीसरी वेव की आशंका व्यक्त की जा रही है, इस पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए प्रदेश सरकार ने अभी से अपनी कार्ययोजना बनानी शुरू की है. प्रशासन से हर जनपद में महिलाओं और बच्चों के लिए एक डेडिकेटेड अस्पताल तैयार करने के​ लिए कहा गया है.

CM योगी का आदेश, इस तारीख से शुरू हो स्कूल-कॉलेज और विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन क्लास

रविवार सुबह यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ गौतमबुद्ध नगर, मेरठ और गाजियाबाद जिलों के दौरे पर पहुंचे थे. सीएम रविवार सुबह गौतम बुद्ध नगर जिला पहुंचे और उन्होंने मीडियाकर्मियों के लिए लगाए गए टीकाकरण शिविर का निरीक्षण किया. सीएम योगी ने यहां मीडिया से बात करते हुए कहा कि यूपी में तेजी से टीकाकरण कराया जा रहा है. हमारी प्राथमिकता गांवों में संक्रमण रोकना है. सीएम ने कहा कि प्रदेश में आने वाले वक्त में बड़े स्तर पर टीकाकरण कराया जाएगा.

UP में कोरोना के साथ अब ब्लैक फंगस दिखा रहा अपना प्रकोप, लखनऊ में दूसरी मौत

सीएम ने कहा कि प्रदेश में ग्रामीण इलाके के लोग कोरोना का टेस्ट कराने से परहेज कर रहे हैं. इसलिए गांवों में टेस्ट टीमों को भेजा जा रहा है. प्रदेश में रैपिड रेस्पॉन्स टीम का गठन किया गया है और ये टीम गांवों में जाकर लोगों का टेस्ट कर रही है. इस अभियान में 3 लाख से अधिक टेस्ट किए गए हैं और लोगों को मेडिकल किट भी दी गई है. सीएम ने कहा कि प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर को रोकने की तैयारी की गई है और इसके लिए हर जिले में इंतजाम कराए जा रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें