CM योगी का बड़ा फैसला, अब पेंशनर ऑनलाइन जमा कर सकेंगे जीवन प्रमाणपत्र

Smart News Team, Last updated: 15/10/2020 11:39 AM IST
  • यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पेंशनधारकों के हित में एक बड़ा फैसला लिया है. पेंशन धारक अब अपने जीवित रहने का प्रमाणपत्र ऑनलाइन दे सकेंगे.
यूपी सरकार ने पेंशनरों के लिए ऑनलाइन तरीके से जीवन प्रमाणपत्र जमा करने की व्यवस्था की है. 

लखनऊ. यूपी सरकार द्वारा पेंशनधारकोंं के लिए ऑनलाइन माध्यम से जीवन प्रमाणपत्र जमा करने का फैसला लिया गया है. इस संबंध में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने वित्त विभाग को निर्देशित किया है. सरकारी सेवा से रिटायर लोगों को पेंशन मिलता है. पेंशनधारकों को हर साल अपने खाता वाले बैंक में अपने जिंदा होने का एक जीवित पत्र जमा करना होता है ताकि ये पता रहे कि पेंशनधारक जिंदा है.

सीएम योगी ने पेंशनधारकों के जीवन प्रमाणपत्र देने की व्यवस्था को सरल बनाने का निर्देश दिया है. इससे पेंशन पर गुजारा कर रहे बुजुर्गों को भागदौड़ से राहत मिलेगी.  सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस संबंध में कहा कि वित्त विभाग की ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए, जिससे बुजुर्ग पेंशनरों को बार-बार कोषागार जाकर परेशान न होना पड़े. नई व्यवस्था के जरिए पेंशनधारक खुद अपने घर पर ही ऑनलाइन जीवित रहने का प्रमाणपत्र विभाग में जमा कर सकते हैं. इसके अलावा वे कामन सर्विस सेन्टर से भी जीवित रहने का प्रमाणपत्र पेश करके पेंशन प्राप्त कर सकते हैं. 

UP शिक्षक भर्ती: 16 अक्टूबर को नियुक्ति पत्र, सफल उम्मीदवारों से CM करेंगे बात

बुधवार को यूपी कैबिनट की बैठक में पेंशनधारकों के जीवित रहने का प्रमाणपत्र से जुड़ा यह बड़ा फैसला लिया गया है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस दौरान कहा कि पेंशन प्राप्त करने से जुड़ी प्रक्रिया को सरल बनाया जाएं, ताकि बुजुर्ग पेंशनधारकों को बेवजह दिक्कत न हों. 

महिला-बच्चों के खिलाफ अपराध पर CM योगी सख्त, कहा- फास्ट ट्रैक कोर्ट निपटाए केस

सीएम योगी ने इस संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिया कि आनलाइन प्रक्रिया विकसित किया जाए और इसका व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जाए. उन्होंने कहा कि पेंशनधारक वरिष्ठ नागरिक होते हैं, जीवन प्रमाणपत्र पेश करने के लिए उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है. बैंक, कोषागार ऑफिस में जाने के बाद ही वे जीवित रहने का प्रमाणपत्र पेश कर पात हैं. इस नई व्यवस्था उन्हें भागदौड़ से राहत मिलेगा. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें