CM योगी ने भ्रष्टाचार आरोप में 3 एआरटीओ को किया सस्पेंड, 10 करोड़ का हुआ घोटाला

Smart News Team, Last updated: Wed, 16th Sep 2020, 11:29 AM IST
  • यूपी में भ्रष्ट तरह से गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन का मामला साबित होने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने प्रदेश के तीन एआरटीओ को सस्पेंड कर दिया है. मध्य प्रदेश से ट्रक खरीदकर यूपी में उनका रजिस्ट्रेशन कराया जा रहा था. 
यूपी सरकार ने तीन एआरटीओ को सस्पेंड किया.

लखनऊ. यूपी में ट्रकों का भ्रष्ट तरीके से रजिस्ट्रेशन कराने के आरोप सही साबित होने पर सीएम योगी आदित्यानाथ ने तीन एआरटीओ को निलंबित कर दिया है. इसी के साथ सरकारी गाड़ियों के लिए आरक्षित बीजी नंबर की सीरीज को प्राइवेट गाड़ियों की संख्या के रूप में देने वाले दो अन्य एआरटीओ के खिलाफ अनुशासनिक कार्रवाई करने के आदेश दिए गए हैं.

यूपी सरकार ने भ्रष्टाचार में जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत मंगलवार को परिवहन विभाग में कार्रवाई करके तीन लोगों को निलंबित किया. सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि मध्य प्रदेश के जबलपुर में बैंक से लोन लेकर वाहन खरीदने के नाम पर 10 करोड़ का घोटाला हुआ. इसमें 50 गाड़ियों की खरीद की गई थी जिसमें से 20 गाड़ियों का कोई पता नहीं है वहीं 30 गाड़ियों में से 10 के कागज यूपी के हैं. तीन आरोपी अधिकारियों ने ना सिर्फ उनका रजिस्ट्रेशन किया बल्कि कागजों पर इनकी अनुशंसा भी की थी. 

दुबई की जमीन बेचने का दावा, 59 करोड़ की ठगी, 9 अरेस्ट, मास्टर माइंड फरार

बैंक धोखाधड़ी की जांच सीबीआई को दी गई थी और तीनों अधिकारियों के विरुद्ध सीबीआई ने तत्काल कार्रवाई करने के लिए सरकार को पत्र लिखा था. इसी पर कार्रवाई करते हुए मंगलवार को तीन लोगों को सस्पेंड किया गया. 

CM योगी बोले- मुगल नहीं सबके नायक शिवाजी महाराज, फडणवीस का ट्वीट - जय शिवराय

वहीं झांसी में सरकारी गाड़ियों के लिए जारी होने वाले बीजी नंबर की सीरीज को प्राइवेट नंबर के रूप में जारी करने वाले मामले में भी भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है. जिसमें अधिकारियों पर अनुशासनिक कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें