योगी सरकार का फैसला- UP में चलाएं बारिश का पानी बचाने के लिए विशेष अभियान

Smart News Team, Last updated: Mon, 12th Apr 2021, 2:06 PM IST
  • यूपी के शहरी क्षेत्रों में वर्ष जल संचयन के लिए योगी सरकार कैच द रेन कार्यक्रम की तरह विशेष अभियान चलाएगी. इसके लिए 10 एकड़ से अधिक क्षेत्रफल की योजनाओं के ले-आउट प्लान्स में पार्क और खुले क्षेत्र के लिए प्रस्तावित भूमि पर जलाशय का निर्माण अनिवार्य रूप से किया जाएगा.
वर्षा जल संचयन के लिए यूपी में चलेगा विशेष अभियान.

लखनऊ: केंद्र सरकार के ‘कैच द रेन’ कार्यक्रम के तर्ज पर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य में मानसून से पहले वर्षा जल संचयन के लिए विशेष अभियान चलाने का फैसला किया है. इसके लिए शहरी क्षेत्र में आवास विकास के जरिए 10 एकड़ से अधिक क्षेत्रफल की टाउनशिप में एक फीसदी क्षेत्र में जलाशय का निर्माण किया जाएगा. इसके लिए 14 अप्रैल अंबेडकर जयंती और 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मुख्यालयों पर जल संरक्षण के संबंध में विशेष कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे.

प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार ने कहा है कि 10 एकड़ से अधिक क्षेत्रफल की योजनाओं के ले-आउट प्लान्स में पार्क और खुले क्षेत्र के लिए प्रस्तावित भूमि के अंतर्गत जलाशय या जलाशयों का निर्माण अनिवार्य रूप से किया जाएगा. जलाशय के निर्माण से पहले संबंधित योजना के अंतर्गत बारिश के पानी को इकट्ठा करने की व्यवस्था की जाएगी. राज्य सरकार के मानकों के अनुसार पार्क में रिचार्ज पिट और रिचार्ज शैफ्ट बनाए जाएंगे.

टीएमसी के पूर्व सांसद व अन्य सात पर धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज, लखनऊ CBI करेगी जांच

प्रमुख सचिव ने बताया, यदि 300 वर्ग मीटर या उससे अधिक क्षेत्रफल के भूखंडों में सामूहिक रिचार्ज नेटवर्क नहीं है तो इसके लिए भवन के मालिक को स्वयं ही वर्षा जल संचयन के लिए व्यवस्था करनी होगी. उन्होंने बताया, कि पार्कों में पांच प्रतिशत से अधिक पक्का निर्माण करने की अनुमति नहीं होगी. पार्कों में फुटपाथ व ट्रैक्स निर्माण के लिए परमीएबिल या सेमी परिमीएबिल ब्लाक्स का प्रयोग किया जाएंगा. पार्क और सड़कों पर ऐसे पेड़-पैधों लगाए जाएगे, जिनको कम पानी की जरुरत होगी.

प्राइवेट स्कूलों ने अधिकारियों पर बनाया दबाव, शिक्षकों को बुलाने की मिली अनुमति

BJP सांसद का अखिलेश यादव से सवाल- अब क्यों उन्हें दलित वाहिनी की याद आ रही?

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें