यूपी चुनावः एबीपी-सी वोटर सर्वे में प्रदेश की आधी आबादी योगी के काम से संतुष्ट

Shubham Bajpai, Last updated: Sat, 4th Sep 2021, 9:04 AM IST
  • यूपी विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर एबीपी-सी वोटर सर्वे में प्रदेश की करीब आधी आबादी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कार्यशैली से संतुष्ट है. लोगों ने उनके काम करने के तरीके और योजनाओं के प्रति संतुष्टि जताई है. सर्वे में करीब 45 फीसदी से अधिक लोगों ने सीएम योगी के काम की तारीफ की है.
एबीपी-सी वोटर सर्वे में प्रदेश की आधी आबादी योगी के काम से संतुष्ट

लखनऊ. यूपी में 2022 की शुरुआत में होने वाले विधानसभा चुनाव में 403 सीटों में होने वाले घमासान की अभी से तैयारी शुरू हो गई है. इसी बीच प्रदेश की जनता के मूड को जानने के लिए एबीपी-सी वोटर ने एक सर्वे किया. जिसके रिजल्ट में चौंकाने वाली यह बात सामने आई है कि यूपी में करीब 4 साल से अधिक सरकार चला चुके मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के काम से प्रदेश की आधी आबादी संतुष्ट है और उनका विश्वास सीएम योगी पर कायम है. सर्वे में 2022 में फिर से बीजेपी सरकार बनती नजर आ रही है वहीं, सपा मजबूत विपक्ष के रूप में दिखाई दे रही है.

45 फीसदी लोग सीएम योगी के कामकाज से संतुष्ट

सी वोटर के सर्वे में शामिल 45 फीसदी लोगों का कहना है कि वो सीएम योगी के कामकाज से काफी संतुष्ट है और वो सीएम योगी को फिर से सीएम की कुर्सी पर देखना चाहते हैं. 20 फीसदी लोग कम संतुष्ट है और उनका कुछ मुद्दों को लेकर मतभेद है. वहीं, 34 फीसदी ऐसे लोग है जो सीएम योगी से अंसतुष्ट है और उनको उनका कामकाज नापसंद है. सर्वे में 1 फीसदी लोगों ने कुछ बताने से ही इंकार कर दिया.

यूपी चुनाव: एबीपी-सी वोटर सर्वे में सीएम योगी के लिए गुड न्यूज, फिर से बीजेपी सरकार

बेरोजगारी चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा

सी वोटर सर्वे के अनुसार, 2022 विधानसभा चुनाव में बेरोजगारी बड़ा मुद्दा बन सकती है. सर्वे में 39 फीसदी लोग बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर वोट करने की बात कह रहे हैं. कोरोना काल के बाद से बेरोजगारी को लेकर लगातार सत्ता पक्ष की आलोचना हो रही है. वहीं, मंहगाई को लेकर 26 फीसदी वोट करने की बात कर रहे हैं, लगातार बढ़ती मंहगाई से आमजन काफी परेशान है और आने वाले चुनाव में इसका असर देखने को मिल सकता है.

यूपी चुनाव 2022 में OBC वर्ग तय करेगा कौन संभालेगा प्रदेश, 32 फीसदी वोट पर काबिज

किसान आंदोलन का नहीं दिखेगा खास असर

किसान आंदोलन को लेकर लगातार कयास लगाए जा रहे हैं कि यूपी विधानसभा चुनाव में इसका असर देखने को मिलेगा. सी वोटर सर्वे में किसान आंदोलन के नाम पर सिर्फ 19 फीसदी लोग वोट करेंगे. जिसका बहुत खास असर प्रदेश में देखने को नहीं मिलेगा. वही, करीब 10 फीसदी लोग कोरोना को वोटर करेंगे. सबसे कम जो मुद्दा इस चुनाव में कारगर साबित होगा वो है भ्रष्टाचार. इस मुद्दे पर सिर्फ 3 फीसदी लोग वोट करने की बात कह रहे हैं जबकि अन्य का भी आंकड़ा इतना ही है.

भाजपा इस चुनाव में जनगणना नीति, राम मंदिर, हिंदुत्व कार्ड समेत कई मुद्दों को लेकर चुनाव की रूपरेखा तैयार करने की तैयारी कर रही है. वहीं, इन मुद्दों को लेकर योगी सरकार और भाजपा की काफी प्रसन्नता भी हुई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें