यूपी चुनाव: उमर खालिद के पिता की पार्टी से अखिलेश की सपा का गठबंधन

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 3rd Oct 2021, 3:10 PM IST
  • यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के मद्देनजर जेएनयू के पूर्व छात्रनेता उमर खालिद के पिता कासिम रसूल इलियास की पार्टी वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया ने अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी के साथ विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की है. गठबंधन को लेकर पार्टी अध्यक्ष कासिम ने यूपी प्रेस क्लब में प्रेसवार्ता करके जानकारी दी. 
यूपी चुनाव: उमर खालिद के पिता की पार्टी से अखिलेश की सपा का गठबंधन

लखनऊ. जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्र नेता और 2016 में जेएनयू में कथित तौर पर संसद हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी के खिलाफ आयोजित कार्यक्रम मामले में आरोपी उमर खालिद के पिता और वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष कासिम रसूल इलियास ने यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में सपा का समर्थन देना का ऐलान किया. इलियास ने लखनऊ स्थित यूपी प्रेसक्लब में प्रेसवार्ता करके इसकी जानकारी दी. उन्होंने बताया कि 2 अक्टूबर को समाजवादी पार्टी के मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से बातचीत हुई और अखिलेश साथ मिलकर चुनाव लड़ने को तैयार हो गए हैं. वहीं, आज भाजपा की कुनीतियों से लोग तंग है इसलिए हमारी पार्टी ने सपा के पक्ष में प्रचार करने का निर्णय लिया है. प्रेसवार्ता में वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ ए सुब्रमनी, राष्ट्रीय महासचिव सीमा मोहसिन, उपाध्यक्ष रविशंकर त्रिपाठी  और राष्ट्रीय सचिव सिराज तालिब मौजूद रहे. 

भाजपा के सत्ता से हटाने के लिए सभी सेक्युलर पार्टियों को आना होगा एक मंच पर

कासिम रसूल इलियास ने कहा कि अखिलेश ने मुलाकात करके वेलफेयर पार्टी नेतृत्व से उन सीटों की जानकारी मांगी है जिन सीटों से पार्टी अपने उम्मीदवार खड़े करना चाहती है. वहीं,  अखिलेश ने कहा कि लोकतंत्र पर संकट है. किसानों और नौजवानों के मुद्दे समाजवादी सरकार बनने पर तय समय में हल किए जाएंगे. आज अगर भाजपा को सत्ता से बेदखल करना है तो हम सभी सेक्युलर पार्टियों को एक मंच पर आना ही होगा.

योगी सरकार का बड़ा फैसला, कोरोना काल में महामारी एक्ट में दर्ज मुकदमे लेगी वापस

प्रेसवार्ता करते वेलफेयर पार्टी के अध्यक्ष कासिम रसूल इलियास

बहुमत से जीत के साथ अखिलेश को सीएम बनाने के लिए करेंगे काम

इलियास ने कहा कि हमारी पार्टी यूपी चुनावों में सपा के पक्ष में प्रचार करेगी और बहुमत में जीत के साथ सपा प्रमुख अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाने की दिशा पर काम करेंगे. आज लोग भाजपा की कुनीतियों से काफी तंग आ चुकी है. 2022 में समाजवादी सरकार आने के बाद कानून का राज फिर से बहाल होगा. सपा सरकार आने के बाद आदिवासियों को वन का अधिकार मिलेगा और महिलाओं को प्रतिनिधित्व मिलेगा.

घरेलू गैस के बाद लखनऊ में बढ़े CNG-PNG गैस के दाम, जानिए क्या हैं नए रेट

बता दें कि कथित तौर पर जेएनयू में आंतकवादी उमर खालिद की बरसी मनाने और देश विरोधी नारे लगाने के मामले में उमर खालिद आरोपी हैं. साथ ही दिल्ली में हुए दंगों में भी उमर खालिद का नाम सामने आया था. इस मामले में जो चार्जशीट दाखिल की गई थी उसमें खालिद पर वित्तीय मदद देने की बात कहने और लोगों को भड़काने का आरोप लगाया गया. हालांकि इन आरोपों को खालिद के वकील ने झूठा और मनगढ़ंत बताया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें