BJP विधायक का विवादित बयान- जो अली को मानते हैं, उन सबको भगा दूंगा

Somya Sri, Last updated: Sat, 22nd Jan 2022, 7:38 AM IST
  • हाल ही में बीजेपी प्रत्याशी व लोनी विधायक नंद किशोर गुर्जर ने विवादित बयान दिया था, " न अली न बाहुबली लोनी में सिर्फ बजरंगबली". उन्होंने यहां तक कहा था कि जो अली को मानते हैं उन्हें भगा दूंगा. इसपर चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस थमा दिया. इसके बावजूद लोनी विधायक अपने बयान पर अडिग रहें. हालांकि उन्होनें अपनी सफाई में कुछ और बातें भी कही है.
बीजेपी लोनी विधायक नंद किशोर गुर्जर (फाइल फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अब ज्यादा वक्त नहीं बचा है. जैसे जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं सभी राजनीतिक दल अपने वोटरों को लुभाने की कोशिश में जुट गए हैं. हालांकि इस बीच बयानों का दौर भी शुरू हो गया है. हाल ही में भारतीय जनता पार्टी के गाजियाबाद के लोनी से विधायक नंद किशोर गुर्जर ने एक विवादित बयान दे दिया. जिसपर चुनाव आयोग को उन्हें नोटिस तक भेजना पड़ा. हालंकि नोटिस मिलने के बाद भी विधायक अपने बयान से पीछे नहीं हटे हैं. हाल ही में लोनी विधायक नंद किशोर गुर्जर ने विवादित बयान दिया था, " न अली न बाहुबली लोनी में सिर्फ बजरंगबली". उन्होंने यहां तक कहा था कि जो अली को मानते हैं उन्हें भगा दूंगा. उनके इस बयान पर सियासत भी गरमा गई है.

बता दें कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार, कोई भी प्रत्याशी ऐसा कोई बयान नहीं दे सकता है जिससे जातियोें, समुदायों, धार्मिक समूहों के बीच मतभेद बढ़ सकते हों. साथ ही किसी रैली या अन्य किसी भी गतिविधि से भी प्रत्याशी आपसी घृणा-तनाव पैदा नहीं कर सकता है. जबकि लोनी विधायक के इस बयान पर उन्हें चुनाव आयोग की ओर से नोटिस तक मिल गया. उन्हें तीन दिनों के भीतर लिखित में जवाब देने को कहा गया था. इस संबंध में रिटर्निंग ऑफिसर ने कहा था," नंदकिशोर गुर्जर अपना स्पष्टीकरण तीन दिन में दें, वरना एक पक्षीय कार्रवाई कर दी जाएगी."

दो बार के MLA का कल्याण सिंह के बेटे पर आरोप, कहा- इनके कहने की वजह से नहीं मिली SP से टिकट

वहीं चुनाव आयोग की ओर से नोटिस मिलने के बाद भी लोनी विधायक पीछे नहीं हटे. वो अपने बयान पर कायम रहें. उन्होंने कहा कि यह मेरा पर्सनल बयान था. इसी राजनीति से नहीं जोड़ना चाहिए. वो यही नहीं रुके उन्होंने आगे भी कहा, " इस मैं सिर्फ इस बार की बात नहीं कर रहा हूं, लोनी में हर बार बजरंगबली सरकार बनेगी. बजरंगबली के भक्त हम है तो अली कैसे जनता के बीच रह सकता है."

वहीं एशियन न्यूज आपकी आवाज के मुताबिक उन्होंने सफाई देते हुए कहा," वह बजरंगबली के भक्त हैं और यह उनकी आस्था का विषय है. उन्होंने केवल अपने भगवान के बारे में ही कहा है और जहां तक अली की बात है तो वो मोहम्मद अली जिन्ना था. उसने देश भर में लोगों का कत्लेआम मचा कर कोहराम मचाया था. इतना ही नहीं उसने देश का बंटवारा भी करवाया. उन्होंने कहा कि चुनाव लड़ने की इजाजत बाहुबली को भी नहीं होनी चाहिए. उसके बाद भी बाहुबली को इस इलाके में टिकट दिया गया तो इसे लेकर उन्होंने इस तरह की बात कही थी. लेकिन किसी की भावनाओं को आहत करने का उनका धेय नहीं था."

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें