यूपी चुनाव 2022 में बसपा के लिए 118 सीटें अहम, मायावती गुणा-गणित बैठाने में जुटीं

Prachi Tandon, Last updated: Wed, 20th Oct 2021, 12:43 PM IST
  • यूपी विधानसभा चुनाव 2022 बहुजन समाज पार्टी की 118 सीटें बहुत अहम है. राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बसपा की जीत 118 सीटों पर इसलिए मायने रखती है क्योंकि 2017 के इलेक्शन में इन सीटों पर BSP दो नंबर पर रही है. कुछ सीटें तो ऐसी हैं जिनपर बसपा को मामूली वोटों से हार का सामना करना पड़ा था.
यूपी चुनाव 2022 में जीत के लिए मायावती सीटों का गुणा-गणित बैठाने में जुटी हैं.(फाइल फोटो)

लखनऊ. शैलेंद्र श्रीवास्तव. 

बसपा सुप्रीमो मायावती यूपी विधानसभा में जीत के लिए एक-एक सीट के लिए गुणा-गणित बैठाने का प्रयास कर रही हैं. मायावती चुनाव में जीत के लिए जातीय समीकरण से लेकर टिकट बंटवारे तक के बारे विचार कर रही हैं. इस बार के चुनाव के लिए खासकर उन सीटों पर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है जो बहुजन समाज पार्टी की परंपरागत सीटें रही हैं. इसी के साथ गुणा-गणित में यह भी देखा जा रहा है कि बसपा किन सीटों पर 2017 के चुनाव में दूसरे नंबर पर रही है. जिससे 2022 के चुनाव में उन सीटों को जीतने के लिए भरपूर कोशिश की जा सके.

बहुजन समाज पार्टी के रणनीतिकारों का मानना है कि अगर मायावती की पार्टी को 403 में से 118 सीटों पर जीत हासिल होती है तो उनकी सत्ता की राह आसान हो जाएगी. बसपा यूपी विधानसभा चुनाव में टिकट देने के लिए कैवल पैनल में शामिल होने को महत्व नहीं दे रही है. बसपा कैंडिडेट्स के परफॉर्मेंस को भी पूरी तरह से परख रही है. बसपा के रणनीतिकार इसी के साथ इस बात पर ध्यान दे रहे हैं कि पिछले 10 सालों में चुनाव में दावेदारी करने वालों ने पार्टी के हित में कितना काम किया है. 

यूपी चुनाव 2022: सपा ने 72 सदस्यीय राज्य कार्यकारिणी घोषित की, देखें लिस्ट

बसपा विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करने के लिए पूरी तरह से तैयारी में जुटी हुई है. बसपा चुनाव 2022 में दागियों, भगोड़ों और विह्प तोड़ने वालों को टिकट देने से परहेज करने वाली है. बसपा टिकट देने में पुराने और अनुभवी नेताओं को पहले प्राथमिकता दे रही है. बसपा सुप्रीमो मायावती का मानना है कि अनुभवी नेताओं की क्षेत्र में पहचान होती है और इससे जीत की राह आसान हो जाती है. पार्टी पुराने और अनुभवी नेताओं को टिकट देने पर मंथन कर रही है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें