यूपी चुनाव: कांग्रेस के साथ नहीं अखिलेश की साइकिल पर सवार होगी जयंत की RLD

SHOAIB RANA, Last updated: Sat, 6th Nov 2021, 8:49 PM IST
  • यूपी चुनाव 2022 से पहले अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी जयंत चौधरी की रालोद के साथ गठबंधन की तैयारी कर रही है. मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन पर दोनों पार्टियों के गठबंधन का ऐलान किया जा सकता है. इससे वेस्ट यूपी में सपा को मजबूती मिलेगी और भाजपा की चिंता बढ़ जाएगी.
फोटो में सपा प्रमुख अखिलेश यादव और आरएलडी चीफ जयंत चौधरी

लखनऊ. वेस्ट यूपी में जाट एक अहम वोटर हैं जो किसान आंदोलन के बाद से काफी संख्या में वर्तमान में भाजपा के विरोध में भी है. ऐसे में यूपी चुनाव को लेकर जयंत चौधरी की आरएलडी और अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी का गठबंधन अब भाजपा के लिए नया सिरदर्द पैदा कर सकता है. पहले आरएलडी प्रमुख जयंत चौधरी प्रियंका के विमान में सवार होकर दिल्ली गए थे, सबको लगा था कांग्रेस और रालोद का गठबंधन तय है. लेकिन अब सपा और रालोद के गठबंधन की खबरों ने सियासी हवा को जरा सा मोड़ दिया है और भाजपा के लिए एक चुनौती भी बन गई है क्योंकि पहले से ही किसान आंदोलन का विरोध और ऊपर से वेस्ट यूपी में सपा का मुस्लिम वोट बैंक और रालोद का जाट वोट बैंक एक साथ मिलकर कुछ बड़ा खेल भी कर सकता है. हालांकि, ये अभी सिर्फ कयास है और यह फैसला तो जनता के मत से ही तय होगा.

दरअसल, जयंत चौधरी की आरएलडी पार्टी उनके दादा और पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के उसूलों पर बनाई गई जो हमेशा किसानों के हक में आवाज उठाती आई. अब देशभर में किसान आंदोलन की धूम के बीच रालोद का किसी भी पार्टी के साथ यूपी चुनाव में उतरना सत्ताधारी पार्टी के लिए परेशानी का सबब बन सकता है. पहले कयास थे कि पूर्व केंद्रीय मंत्री दिवंगत अजीत सिंह के बेटे जंयत चौधरी, यूपी में राहुल गांधी की कांग्रेस का हाथ थामेंगे लेकिन ऐसे सिर्फ कयास ही रह गए. अब खबर है कि 21 नवंबर मुलायम सिंह के जन्मदिन पर आरएलडी और सपा अपने गठबंधन का ऐलान करेंगी. इस दौरान जयंत और अखिलेश मिलकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करेंगे.

CM योगी ने खत्म किया सस्पेंस, बताया किस सीट से लड़ेंगे यूपी विधानसभा चुनाव

पूर्वांचल से वेस्ट तक अखिलेश की हर वोटर पर नजर

अखिलेश यादव चुनाव हारना नहीं चाहते, इसके लिए वे छोटे से लेकर बड़े-बड़े दलों को अपने साथ करने की कोशिश में लगे हैं. जहां वेस्ट में जयंत चौधरी उनके रथ के सारथी बन सकते हैं तो पूर्वांचल में हाल ही में सपा के साथ गठबंधन करने वाले ओपी राजभर भी अखिलेश के लिए काफी मददगार साबित हो सकते हैं. और जाहिर हैं ये गठबंधन सीएम योगी आदित्यनाथ की भाजपा को चिंता में जरूर डाल सकते हैं.

40 सीट मांग रही रालोद, 32 देना चाह रहे अखिलेश

अखिलेश यादव के साथ गठबंधन की तैयारी कर रही किसानों की पार्टी रालोद का वेस्ट यूपी में अच्छा प्रभाव है. सूत्रों की मानें तो गठबंधन के बाद पार्टी 40 सीटें समाजवादी पार्टी से चाहेगी जिसमें बताया जा रहा है कि अखिलेश 32 सीट पर बातचीत कर सकते हैं. हालांकि, अभी तक इस मामले में किसी भी तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें