UP में मेडिकल छात्रों के लिए खुशखबरी! MBBS की 800 सीटें बढेंगी

Smart News Team, Last updated: 16/10/2020 10:55 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के मेडिकल काॅलेज में 800 सीटें बढ़ने जा रही है. शुक्रवार को प्रयागराज के एक निजी मेडिकल काॅलेज को 150 सीटों पर एडमिशन लेने की मंजूरी दे दी गई.
यूपी के मेडिकल काॅलेजों में बढ़ने जा रही हैं 800 सीटें. प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के काॅलेजों में मेडिकल की पढ़ाई का सपना संजोने वाले छात्रों के लिए एक अच्छी खबर आई है. प्रदेश में इस साल एमबीबीएस की 800 सीटें बढ़ने जा रही है. जिसके बाद एमबीबीएस करने का मौका अधिक छात्रों को मिलेगा. शुक्रवार को प्रयागराज के एक निजी मेडिकल काॅलेज को एमबीबीएस की 150 सीटों पर दाखिना लेने की मंजूरी मिल गई है.

उम्मीद की जा रही है कि उत्तर प्रदेश के निजी और सरकारी मेडिकल काॅलेजों के लिए 800 सीटें बढ़ाई जाएंगी. जिसके बाद उत्तर प्रदेश हर साल सबसे ज्यादा डाॅक्टर देश को देगा. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में अभी एमबीबीएस की 2690 सीटें हैं.

UP 69 हजार शिक्षक भर्तीः लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में अभ्यार्थियों को दिए नियुक्ति पत्र

उत्तर प्रदेश में केजीएमयू और लोहिया संस्थान समेत 22 सरकारी और 24 प्राइवेट मेडिकल कॉलेज हैं. 2019 में मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने सरकारी मेडिकल काॅलेज के लिए 2628 सीटों पर एडमिशन की मंजूरी दी थी. यूपी में प्राइवकेट मेडिकल काॅलेज में 3300 एमबीबीएस की सीटें हैं. प्रदेश के इकलौते सरकारी संस्थान केजीएमयू में बीडीएस की 70 सीटें हैं और 22 प्राइवेट कॉलेजों मे बीडीएस की 2200 सीटें हैं.

लखनऊ: यूपी सरकार में 1 आईपीएस, 3 पीपीएस समेत चार अफसरों का हुआ ट्रांंसफर

चिकित्सा शिक्षा महानिदेशालय के अधिकारियों ने बताया कि प्रयागराज के निजी मेडिकल कॉलेज को एमबीबीएस के लिए 150 सीटों पर मंजूरी मिल गई है. कहा जा रहा है कि वहीं ग्रेटर नोएडा के एक प्राइवेट मेडिकल कॉलेज को भी एमबीबीएस के एडमिशन की मंजूरी मिल सकती है. 

यूपी सरकार ने दिया कर्मचारियों को फेस्टिवल तोहफा, 10 हजार का ले सकते हैं एडवांस

नेशनल मेडिकल कमीशन यूपी के तीन सरकारी मेडिकल कॉलेजों को भी एडमिशप की मंजूरी दे सकती है. पिछले कई सत्रों में कई कॉलेजों में सीटों की संख्या में कटौती कर दी गई थी. इस वजह से अब मेडिकल कॉलेज में सीट के बढ़ोत्तरी के आसार लग रहे हैं. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें