दीपावली पर UP सरकार का राज्य कर्मचारियों को तोहफा, महंगाई भत्ता 11 प्रतिशत बढ़ा

Smart News Team, Last updated: Wed, 25th Aug 2021, 11:39 AM IST
  • प्रदेश सरकार ने राज्य कर्मचारियों के तीन फीसदी महंगाई भत्ते और महंगाई राहत दीवाली तक दे सकती है. इससे राज्य कर्मचारियों के वेतन में करीब 4 से 21 हजार तक बढ़ोतरी हो सकती है. इसी के साथ नवंबर में इन कर्मचारियों को डीए भी मिलना है.
प्रदेश में महंगाई भत्ते में 11 प्रतिशत भत्ते में वृद्धि से राज्य कर्मचारियों के वेतन में प्रति माह करीब 4 से लेकर 21 हजार तक बढ़ोतरी होगी.

लखनऊ. प्रदेश सरकार राज्य कर्मचारियों को दीपावली में महंगाई भत्ते को लेकर एक और तोहफा दे सकती है. सरकार कर्मियों और पेंशनर्स को जुलाई 2021 के मंहगाई भत्ते व मंहगाई राहत का लाभ दीपावली तक दे सकती है. इसका लाभ मिलने से कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 3 प्रतिशत तक बढ़ोतरी हो सकती है. प्रदेश में महंगाई भत्ते में 11 प्रतिशत भत्ते में वृद्धि से राज्य कर्मचारियों के वेतन में प्रति माह करीब 4 से लेकर 21 हजार तक बढ़ोतरी होगी. इसी के साथ नंवबर में इन कर्मचारियों को डीए भी मिलना है. वहीं, जुलाई 2021 की डीए और डीआर की किश्त नंवबर तक सरकार कर सकती है.

सेवानिवृत्त हो चुके या होने वालों को नगद मिलेगा लाभ

बढ़े हुए एरियर की 90 फीसदी राशि तो राष्ट्रीय पेंशन स्कीम के तहत एनपीएस के कर्मचारियों को एनएससी के रूप में मिल जाएग, लेकिन 10 प्रतिशत राशि टियर-एक पेंशन खाते में जमा की जाएगी. वहीं. जिन अधिकारी व कर्मचारी 31 जुलाई 2021 तक सेवानिवृत्त हो गए या अगले 6 महीने में होने वाले हैं. उनका देय महंगाई भत्ते की पूरी राशि नगद मिलेगी. इस संबंध में शासनादेश जारी किया गया है. 1 जुलाई 2021 से मंहगाई राहत दर पेंशनर्स के लिए बढ़ाकर 28 फीसदी कर दी गई है.

यूपी में ब्रह्मोस एरोस्पेस करेगा 300 करोड़ रुपए का निवेश, मिलेगा 15 हजार युवाओं को रोजगार

हाईकोर्ट व उपक्रमों के लिए जारी नहीं होगा यह आदेश

एरियर के संबंध में जारी शासनादेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों, स्थानीय निकायों और सार्वजनिक उपक्रमों के कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा. इसके संबंध में वो विभाग खुद आदेश जारी करेंगे. वहीं, उत्तर प्रदेश सचिवालय संघ ने डीए और डीआर के आदेश के लिए सीएम योगी का आभार जताया है.

लखनऊ में लगातार जारी प्रशासन फेरबदल, 11 IPS के बाद अब इन अधिकारियों का तबादला

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें