यूपी में ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वाले की खैर नही, आईटीएमएस से होगी निगरानी

Smart News Team, Last updated: Sun, 6th Jun 2021, 4:14 PM IST
  • मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी में ट्रैफिक व्यवस्था को मजबूत करने को लेकर 57 जिला मुख्यालयों में आईटीएमएस लागू करने के निर्देश दिए. साथ ही सभी 17 नगर निगमों और खासकर गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) में इस सिस्टम को प्रभावी ढंग से लागू करने के निर्देश दिए.
यूपी में ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वाले की खैर नही, आईटीएमएस से होगी निगरानी

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास पर यातायात निदेशालय के पुनर्गठन के संबंध में प्रस्तुतिकरण देखते हुए नगर निकायके 57 जिला मुख्यालयों  के शहरों में इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम (आईटीएमएस) लागू करने के निर्देष दिए. इसके साथ ही सभी 17 नगर निगमों और खासकर गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) में इस सिस्टम को प्रभावी ढंग से लागू करने के निर्देश दिए हैं.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि राज्य के सभी नगरीय और अंतरजनपदी ट्रैफिक का प्रभावी संचालन होना अति आवश्यक है. प्रदेश में ट्रैफिक का विडियो वॉल के जरिए की जाए साथ ही जाम की स्थिति ना बनने देने पर ध्यान देने की जरूरत है. ट्रैफिक व्यवस्था में लगे मेन पॉवर का भी प्रभावी रुप से इस्तमाल करने की जरूरत है.

UP अनलॉक: अब सिर्फ लखनऊ, मेरठ, गोरखपुर, सहारनपुर में कोरोना कर्फ्यू

लोगों में ट्रैफिक नियमों का पालन हेतु जागरूक बनाने के लिए स्कूली बच्चों के पाठ्यक्रम में ट्रैफिक नियम संबंधी पाठ्यक्रम जोड़ने पर बल देते हुए कहा कि बच्चों को शुरु से ही पढ़ाई के माध्यम से ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरूक बनाया जाए. ताकि वो आगे आने वाले समय में ट्रैफिक नियमों का पालन करें. उन्होंने ट्रैफिक संकेतों का भी जगह-जगह पर प्रयोग करने पर जोर दिया, ताकि लोगों को सही जानकारी मिल सके.

यूपी चुनाव: भाजपा विधायकों का बनेगा रिपोर्ट कार्ड, ऐसे मिलेगा 2022 में MLA टिकट

योगी आदित्यनाथ ने सड़को पर सामान बेचने वालों के लिए वेंडिंग जोन की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए हैं. फूट पेट्रोलिंग को दुरुस्त करने के साथ ट्रैफिक संचालन में लगे होमगार्ड को प्रशिक्षित करने के आदेश दिए हैं

क्या है आईटीएमएस?

आईटीएमएस(इंटेलिजेंट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम) के तहत हर 300 मीटर पर हाई डेफिनेशन के कैमरे शहर भर में जहां ट्रैफिक लगती है वहां लगाया जायेगा. जो किसी भी एंगल से तस्वीरें कैद करने में सक्षम होगा. जो यातायात व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में मददगार होगा. इसमें ट्रैफिक नियमों को तोड़ने पर कैमरे से स्वत: गाड़ी का नंबर प्लेट रीड कर चालान काटने की व्यवस्था है. अगर कोई चालक 40 किलोमीटर प्रति घंटा के रफ्तार से ज्यादा तेज गाड़ी चलाता है तो कैमरा उसके नंबर प्लेट को रीड कर उसकी पूरी जानकारी ट्रैफिक कंट्रोल रूम को भेज देता है. जहां से दिन, तारिख और समय के डिटेल के साथ चालान बना कर चालक के पते पर भेजा जाता है.

इफको ने नैनो यूरिया तरल का व्यावसायिक उत्पादन किया शुरू, किसानों को भेजी पहली खेप

ज्ञात हो कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने प्रस्तुतिकरण करते हुए यातायात निदेशालय के संक्षिप्त विवरण, यातायात पुलिस की संरचना एवं कार्य और उपलब्धियां, सड़क सुरक्षा के ढांचे, तकनीकी प्रबंधन एवं मानकीकरण, लंबित मुद्दों, चुनौतियों, प्रस्ताव एवं प्रस्तावित योजनाओं की जानकारी दी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें