UP Anganwadi Recruitment: इस वजह से रुकीं आंगनबाड़ी में 53 हजार नियुक्तियां

Smart News Team, Last updated: Thu, 8th Jul 2021, 9:11 AM IST
यूपी में आंगनबाड़ी में चल रही 53 हजार नियुक्तियां को रोक दिया गया है. बताया जा रहा है कि लगभग डेढ़ दर्जन जिले ही आवेदन पत्र ले पाए हैं जबकि बाकी जिले अभी आरक्षण की स्थिति साफ होने का इंतजार कर रहे हैं.
आंगनबाड़ी में 53 हजार नियुक्तियां रुकीं

यूपी में आंगनबाड़ी में 53 हजार कार्यकत्रियों और सेविकाओं की नियुक्तियां चल रही थी, जिन पर ब्रेक लग गया है. साथ ही बताया जा रहा है कि लगभग डेढ़ दर्जन जिले ही आवेदन पत्र ले पाए हैं, जबकि बाकी जिले अभी आरक्षण की स्थिति साफ होने का इंतजार कर रहे हैं. इसके अलावा ये भी बताया जा रहा है कि शासन से भेजे गए पत्र में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग का आरक्षण को लेकर प्राविधान नहीं किया गया है. 

इसके अलावा बाकी आरक्षण की स्थिति भी साफ नहींकी गई है. साथ ही बाकी जिलों ने शासन को पत्र लिख कर पूछा गया है कि ज्यादातर जिलों में एसटी वर्ग के लोग उपलब्ध नहीं है लेकिन आदेश में एसटी की जनसंख्या न होने पर एससी से पदों के भरे जाने के बारे में कोई दिशा-निर्देश नहीं दिया गया है. वहीं परियोजना स्तर से पहले से एससी, ओबीसी कोटा अपूर्ण होने की स्थिति में नए केन्द्रों में एससी, ओबीसी का अवशेष कोटा समायोजित करते हुए जिला स्तर पर आरक्षण का कोटा पूरा किया जाएगा या फिर नया कोटा बनाया जाएगा? 

यूपी से दिल्ली और उत्तराखंड तक इंटरस्टेट रोडवेज बस सर्विस फिर से शुरू

वहीं इससे पहेल बाल विकास पुष्टाहार विभाग ने इसी साल मार्च में आदेश जारी करते हुए जिलों को अपने स्तर से रिक्तियों की संख्या आरक्षणवार तय करने का आदेश दिया था. वहीं भर्ती मई के दूसरे हफ्ते तक पूरी की जानी थी. बताया जा रहा है कि ये भर्तियां साल 2011 के बाद हो रही हैं, क्योंकि इतना लम्बा समय बीत जाने के बाद आरक्षण तय करने में दिक्कत आ रही हैं, लिहाजा निदेशालय ने सारा मामला जिलों पर डाल दिया.

पहले निदेशालय स्तर से रिक्तियों की संख्या और आरक्षण तय करने की कवायद की गई थी लेकिन इसका ब्यौरा नहीं मिला. बता दें कि इन जिलों से किया विज्ञापन जारी किया गाया है, जिसमें आजमगढ़, गाजियाबाद, जौनपुर, लखनऊ, कन्नौज, ललितपुर, प्रतापगढ़, प्रयागराज, संभल, सीतापुर, सुलतानपुर, वाराणसी, सोनभद्र, हाथरस, अलीगढ़, सहारनपुर और रामपुर शामिल है.

रेलवे परीक्षा में सख्ती, सिर्फ मोबाइल और घड़ी नहीं, इन चीजों को लेकर जाना भी BAN

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें