UP के इन शहरों के मास्टर प्लान में होगा बदलाव, हवाई अड्डा और सैन्य क्षेत्र होंगे शामिल

Smart News Team, Last updated: 07/02/2021 09:32 AM IST
  • राजधानी लखनऊ सहित अन्य शहरों के विकास के मास्टर प्लान परिवर्तन किया जाएगा. सरकार ने इसके लिए उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है. यह कमेटी तीन माह में अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी. 
यूपी के बड़े शहरों के मास्टर प्लान में होगा बदलाव.

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ सहित अन्य शहरों के मास्टर प्लान में बदलाव किया जाएगा. साथ ही कुछ शहरों के मास्टर प्लान में संशोधन किया जाएगा. इसके लिए प्रमुख सचिव आवास दीपक कुमार ने एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है. कमेटी अपनी तीन माह में अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी. रिपोर्ट के आधार पर लखनऊ सहित प्रदेश के बड़े-बड़े शहर गाजियाबाद, कानपुर, आगरा समेत अन्य शहरों के मास्टर प्लान में परिवर्तन किया जाएगा.

मास्टर प्लान में परिवर्तन के बाद शहरों के भू-भाग को मौजूदा जरुरत के हिसाब से निर्धारित किया जाएगा. हवाई अड्डा, बस स्टैंड, मॉल, सैन्य क्षेत्रों सहित तमाम चीजों को मास्टर प्लान प्रदर्शित होगी. प्रमुख सचिव ने कहा है कि प्लान में लोगों की जरुरतों का खास ख्याल रखा जाएगा. साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाएगा, कि क्षेत्र किसी चीज की सबसे ज्यादा जरुरत है. मास्टर प्लान में वाइल्ड लाइफ सेंचुरी, रिजर्व फॉरेस्ट, पर्यावरण एवं वन व अन्य संरक्षित क्षेत्रों पर विशेष ध्यान रखा जाएगा. शहरों में सेना की फायरिंग रेंज को डेंजर जोन के रूप में घोषित किया जाएगा.

यूपी सरकार इंदौर की तरह सफाईकर्मियों को देगी वर्दी, हेलमेट और गम बूट

समिति का किया गठन

प्रमुख सचिव आवास की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया है. इस समिति में प्रदेश के नगर एवं ग्राम नियोजन विभाग के मुख्य नगर एवं ग्राम नियोजक को सदस्य संयोजक बनाया गया है. इसमें आवास बंधु के निदेशक सदस्य व सह संयोजक होंगे. साथ ही राजकीय आर्किटेक्चर कॉलेज के प्रधानाचार्य और लखनऊ विकास प्राधिकरण के मुख्य अभियंता इन्दू शेखर सिंह इसके सदस्य होंगे. आवास एवं विकास परिषद के पूर्व मुख्य वास्तु विद सुबोध शंकर तथा डॉ एपीजे अब्दुल कलाम विश्वविद्यालय के आर्किटेक्चर संकाय के पूर्व डीन प्रोफेसर जगबीर सिंह को विशेषज्ञ सदस्य बनाया गया है.

लखनऊ पुलिस ने 24 घंटे में किया ट्रांसपोर्टर के अपहरण का खुलासा, तीन अरेस्ट

नौकरी का झांसा देकर करोड़ों लूटे, पैसा मांगने पर पीटा, कोर्ट के आदेश पर केस दर्ज

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें