लखनऊ में बड़ा खेला, अस्पताल लाइसेंस के लिए मजदूरों को फर्जी मरीज बना सूई लगा दी

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Mon, 14th Feb 2022, 6:45 PM IST
  • लखनऊ के डॉ. आरआर सिन्हा मेमोरियल हॉस्पिटल में लाइसेंस के लिए मजदूरों को फर्जी मरीज बनाकर इलाज करने करने का फर्जीवाड़ा सामने आया है. जिसके बाद सोमवार को अस्पताल का लाइसेंस रद्द कर दिया गया है.
मजदूरों को मरीज बनाने वाले लखनऊ के डॉ. आरआर सिन्हा मेमोरियल हॉस्पिटल में लाइसेंस रद्द

लखनऊ. लखनऊ के डॉ आरआर सिन्हा मेमोरियल हॉस्पिटल का लाइसेंस सोमवार को रद्द कर दिया गया. डॉ. आरआर सिन्हा हॉस्पिटल के ऊपर मजदूरों को मरीज बनाकर जबरन इलाज करने का आरोप था. जिसके चलते डॉ. आरआर सिन्हा हॉस्पिटल का लाइसेंस रद्द किया गया है. डॉ. आरआर सिन्हा हॉस्पिटल का लाइसेंस रद्द सीएमओ की नोटिस का जवाब न देने पर स्वास्थ्य विभाग ने कठोर कदम उठाते हुए किया है.

डॉ. आरआर सिन्हा हॉस्पिटल का लाइसेंस रद्द करने से पहले सीएमओ ने दो बार अस्पताल को जवाब-तलब के लिए नोटिस भेजा था. जब अस्पताल की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी तो उसपर कार्रवाई की गई है. वहीं अस्पताल की तरफ से मनमानी करने के चलते भी उसका लाइसेंस रद्द किया गया है.

इलाज के साथ मरीजों को बेचे जा रहे थे 'शुगर फ्री' आलू, अस्पताल की खुली पोल

जानकारी के अनुसार डॉ. एमसी सक्सेना मेडिकल कॉलेज से संबद्ध डॉ. आरआर सिन्हा मेमोरियल हॉस्पिटल का पिछले मंगलवार को फर्जीवाड़े का मामला सामने आया था. जिसमें अस्पताल पर दिहाड़ी मजदूरों की फुसलाकर अस्पताल में मरीज बनाकर भर्ती किया गया. जिसके बाद यह बात सामने आयी थी कि मान्यता पाने के लिए अस्पताल प्रशासन ने दिहाड़ी मजदूरों को मरीज बनाने कि साजिश रची थी.

इतना ही नहीं दिहाड़ी मजदूरों को मरीज बनाने के बाद उनका जबरन इलाज किया गया. साथ ही मजदूरों को जबरन इंजेक्शन और वीगो भी लगाया गया था. जिसके बाद मजदूर भड़क गए थे. जिसके बाद एक मजदूर अस्पताल प्रशासन के चंगुल से निकलकर भागने में कामयाब हो गया. जिसके बाद अस्पताल से भागे मजदूर ने इसकी शिकयर पुलिस में की. जिसके बाद डॉ. आरआर सिन्हा हॉस्पिटल में चल रहे फर्जीवाड़े का भंडाफोड़ हुआ था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें