UP विधानसभा उपाध्यक्ष चुनाव लड़ेगी सपा, सीतापुर विधायक नरेंद्र वर्मा पर लगा सकती है दांव

Somya Sri, Last updated: Thu, 14th Oct 2021, 5:29 PM IST
  • समाजवादी पार्टी की ओर से उत्तर प्रदेश विधानसभा के उपाध्यक्ष चुनाव लड़ने की खबर है. सपा ने इसके लिए विधानसभा सचिवालय से नामांकन पत्र भी ले लिया है. साथ ही कहा जा रहा है कि सपा सीतापुर से विधायक नरेंद्र वर्मा पर दांव लगा सकती है. उपाध्यक्ष चुनाव के लिए नामांकन 17 अक्टूबर को भरे जाएंगे. वहीं चुनाव को लेकर 18 अक्टूबर की तारीख घोषित कर दी गई है.
उत्तर प्रदेश विधानसभा (फाइल फोटो)

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा के उपाध्यक्ष का चुनाव 18 अक्टूबर को होना है. इससे पहले सभी राजनीतिक दल अपने अपने उम्मीदवारों के नामों पर विचार कर रही है. इस बीच समाजवादी पार्टी की ओर से उपाध्यक्ष चुनाव लड़ने की खबर सामने आ रही है. अखिलेश यादव की सपा ने इसके लिए विधानसभा सचिवालय से नामांकन पत्र भी ले लिया है. साथ ही कहा जा रहा है कि सपा सीतापुर से विधायक नरेंद्र वर्मा पर दांव लगा सकती है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश विधानसभा उपाध्यक्ष चुनाव को लेकर विधानसभा स्पीकर हृदय नारायण दीक्षित ने 18 अक्टूबर की तारीख घोषित कर दी है. जिसके लिए नामांकन 17 अक्टूबर को लिए जाएंगे. 17 अक्टूबर को सुबह 11 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक नामांकन फॉर्म भरे जाएंगे. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी की ओर से हरदोई सपा विधायक नितिन अग्रवाल का नाम तेज है. इस बीच कहा जा रहा है कि सपा नितिन अग्रवाल का यूपी उपाध्यक्ष चुनाव में विरोध कर सकती है. वहीं खबर है कि सीतापुर से विधायक नरेंद्र वर्मा पर सपा दांव लगा सकती है. इसके लिए पार्टी ने विधानसभा सचिवालय से नामांकन पत्र भी ले लिया है.

यूपी ग्राम स्वरोजगार स्कीम: बिजनेस को एक लाख लोन के साथ ये सुविधा भी देगी योगी सरकार

हाल ही में एक मीडिया से मुखातिब होते हुए सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने भी कहा था कि सपा विधानसभा उपाध्यक्ष के लिए उम्मीदवार के नाम पर निर्णय राष्ट्रीय अध्यक्ष से चर्चा के बाद पार्टी के विधानमंडल दल की बैठक में लेगी. इस बीच खबर है कि सीतापुर से विधायक नरेंद्र वर्मा पर सपा दांव लगा सकती है. सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा था कि, " चुनाव नजदीक होने पर भाजपा अपनी नाकामी छिपाने के लिए लोगों का ध्यान बंटाने में लगी है. अब विधानसभा उपाध्यक्ष निर्वाचित कराने का कोई मतलब नहीं है. उन्होंने कहा था कि सपा से विधानसभा उपाध्यक्ष के लिए उम्मीदवार के नाम पर निर्णय राष्ट्रीय अध्यक्ष से चर्चा के बाद पार्टी के विधानमंडल दल की बैठक में किया जाएगा."

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें