50 हज़ार का इनामी हिस्ट्रीशीटर सुरेंद्र कालिया कोलकाता में गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: 12/09/2020 03:57 PM IST
  • शनिवार को हिस्ट्रीशीटर सुरेंद्र कालिया को पुलिस ने कोलकाता में गिरफ्तार किया.अपने विरोधियों को फंसाने के लिए 13 जुलाई को सुरेंद्र ने अपने ऊपर झूठी फायरिंग करवाई थी लेकिन जांच में यह मामला झूठा निकला इसके बाद से ही पुलिस उसकी तलाश कर रही थी. पुलिस ने उसके ऊपर 50 हज़ार का इनाम भी घोषित किया हुआ था.
हरदोई का हिस्ट्रीशीटर और रेलवे ठेकेदार सुरेंद्र कालिया

 लखनऊ. शनिवार को हरदोई के हिस्ट्रीशीटर और रेलवे ठेकेदार सुरेंद्र कालिया को नाटकीय तरीके से अवैध हथियारों के साथ कोलकाता में गिरफ्तार किया गया. सुरेंद्र पर लखनऊ पुलिस ने 50 हज़ार का इनाम घोषित किया हुआ था. लखनऊ पुलिस सुरेंद्र को पूर्व सांसद धनंजय सिंह को फंसाने के लिए अपने ऊपर साजिश के तहत झूठी फायरिंग करने के आरोप में ढूंढ रही थी. उसे यूपी पुलिस और एसटीएफ काफी समय से तलाश कर रही थी. डीसीपी मध्य सोनेम वर्मा ने कहा कि हिस्ट्रीशीटर सुरेंद्र को वारंट बी के तहत लखनऊ लाया जाएगा.

जानकारी के अनुसार 13 जुलाई को सुरेंद्र कालिया ने आलमबाग कोतवाली में एक एफआईआर दर्ज कराई थी कि अजंता अस्पताल से बाहर निकलते समय उस पर फायरिंग कराई गई. लेकिन बुलेटप्रूफ गाड़ी में होने की वजह से वह बच गया. इस फायरिंग में उसका निजी गनर रूप कुमार जख्मी हुआ था. जब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज और फॉरेंसिक विशेषज्ञों से इसकी जांच कराई तो मिले सबूतों के आधार पर यह घटना फर्जी निकली.

मलिहाबाद की घटना पर CM योगी की सख्ती, एक इंस्पेक्टर सस्पेंड, आरोपियों पर NSA

10 अगस्त को पुलिस ने खुलासा किया कि सुरेंद्र ने अपने विरोधियों को फंसाने और सरकारी गनर लेने के लिए अपने ऊपर यह हमला कराया था. पुलिस ने इस साजिश में शामिल उसके चार साथियों को भी गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार आलमबाग के यशवेंद्र सिंह उर्फ यशु, छोटा बरहा के सचिन शुक्ला उर्फ विक्की, रायबरेली के आशीष कुमार द्विवेदी और जेल रोड के सुल्तान अली उर्फ मिर्जा को गिरफ्तार किया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें