मुनव्वर राणा के बेटे ने खुद पर चलवाई थी गोली, चाचा और भाई को फंसाने का था प्लान

Smart News Team, Last updated: Sat, 3rd Jul 2021, 6:53 AM IST
  • शायर मुनव्वर राना के बेटे तबरेज राना पर जानलेवा हमला हुआ है जिसका खुलासा पुलिस ने कर दिया है. पैतृक संपत्ति बेचने के बाद पैसों का हिस्सा न करने और सरकारी सुरक्षा मिल जाने के लालच में आकर तबरेज राना ने खुद पर गोली चलवाने की साजिश रची. चार आरोपी गिरफ्तार कर जेल भेज दिए गए है।
मुनव्वर राणा के बेटे ने खुद पर चलवाई थी गोली, चाचा और भाई को फंसाने का था प्लान

लखनऊ. पुलिस ने शुक्रवार को शायर मुनव्वर राना के बेटे तबरेज राना पर हुए जानलेवा हमले का 72 घंटे में ही खुलासा कर दिया. पुलिस ने बताया कि तबरेज राना ने पैसों और गनर के लालच में आकर साजिश रची और खुद पर गोली चलवाई. अपने पिता की संपति को बेचने के बाद तबरेज ने ही चाचा और चचेरे भाई को फंसाने की योजना बनाई थी. पुलिस ने वारदात में शामिल दो शूटर समेत चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. हमले में इस्तेमाल की गई दो बाइकें और दो देसी तमंचे भी बरामद कर लिए गए हैं.

पुलिस अधीक्षक ने पत्रकारों को बताया कि शायर मुनव्वर राना के बेटे तबरेज राना शहर ने तिलोई विस क्षेत्र से चुनाव लड़ने की तैयारी के लिए परिवार की पैतृक जमीन 85 लाख रुपए में कुछ महीने पहले ही बेची थी. परिवार के लोग बेची गई जमीन के हिस्से की धनराशि देने का दबाव बना रहे थे. जिसके चलते रूपये वापस न देने और सरकारी सुरक्षा मिल जाने के लालच में आकर तबरेज राना ने खुद हमले की साजिश रची. उसने आपाराधिक प्रवृत्ति के हलीम घोसी और सुल्तान से मिलकर योजना बनाई. हलीम के साथ काम करने वाले दो युवकों ने योजना को अंजाम दिया.

यूपी पुलिस ने पकड़ा आठवीं पास साइबर ठगों का गिरोह, जानें कैसे करते थे चोरी

एसपी ने बताया कि मामले में हलीम घोसी पुत्र हनीफ, सुल्तान पुत्र अली राजा, सत्येन्द्र त्रिपाठी और शुभम सरकार पुत्र दिनेशचन्द्र को गिरफ्तार किया गया है. तबरेज की तलाश में लखनऊ स्थित आवास पर छापा मारा गया लेकिन वह फरार हो गया. शायर मुनव्वर राना ने दबिश देने गई पुलिस टीम पर गुण्डागर्दी का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस कानपुर का बिकरू कांड दोहराने की साजिश रच रही है. पुलिस ने बिना किसी नोटिस के जबरन घर में घुसकर तलाशी ली. कहने के बावजूद कोई नोटिस या सम्मन नहीं दिखाया. यहां तक की न ही मीडिया और न वकीलों को घर के अंदर आने दिया।

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें