लखनऊ: सीबीसीआईडी के डीजी व एडीजी का ट्रांसफर, अभी नई तैनाती नहीं

Smart News Team, Last updated: Sat, 3rd Apr 2021, 12:38 PM IST
  • सीबीसीआईडी के डीजी विश्वजीत महापात्रा और एडीजी एसके माथुर को हटा दिया गया है. विश्वजीत महापात्रा और एसके माथुर को फिलहाल नई तैनाती नहीं दी गई है. डीजी विजलेंस पीवी रामाशास्त्री को सीबीसीआईडी का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है.
पंचायत चुनाव से पहले आईएएस अफसरों का ट्रांसफर हुआ.

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा शुक्रवार देर रात एकबार फिर दो आईपीएस अफसरों के अचानक ट्रांसफर किए जाने से राजधानी में अफसरों को हैरानी में डाल दिया. इसमें सीबीसीआईडी के डीजी विश्वजीत महापात्रा और एडीजी एसके माथुर को हटा दिया गया है. विश्वजीत महापात्रा और एसके माथुर को फिलहाल नई तैनाती नहीं दी गई है. डीजी विजलेंस पीवी रामाशास्त्री को सीबीसीआईडी का अतिरिक्त चार्ज दिया गया है, जबकि केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से लौटे डॉ. आरके स्वर्णकार को एडीजी सीबीसीआईडी बनाया गया है.0

सीबीसीआईडी ने हाल ही में दिया था लैंडमार्क डिसीजन

मड़ियांव के रहने वाले मनीष मिश्रा दो साल तक इंसाफ के लिए इधर-उधर भटके लेकिन सीबीसीआईडी की जांच रिपोर्ट आने के बाद उसपर लगाए गए सभी गंभीर मुकदमे गलत साबित हुए. शासन के आदेश के बाद पीड़ित मनीष मिश्रा को दोषमुक्त करते हुए सभी दोषी पुलिसकर्मियों पर केस दर्ज किया गया.

अतीक अहमद के शूटर को गनर देने पर IPS अमिताभ ठाकुर का DGP को पत्र, कही ये बात

एक साल तक चली सीबीसीआईडी जांच में सभी आरोपी पुलिसकर्मी दोषी पाए गए. मार्च 2021 में शासन ने पीड़ित को दोषमुक्त करते हुए आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने को कहा. इसके बाद गुरुवार को आरोपी पुलिसकर्मी नैपाल सिंह, वीरभान सिंह, पंकज राय, मिथलेश गिरी पर आईपीसी की धारा 166, 218, 342 के साथ 3/25 आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया.

राजधानी लखनऊ में बनेंगे 10 और नए फ्लाईओवर, जानिए किन जगहों पर होगा निर्माण

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें