प्रियंका गांधी ने घोड़ी अरैंज करा दी फिर भी शादी नहीं कर पाएगा अलखराम, क्यों

Smart News Team, Last updated: Wed, 9th Jun 2021, 10:24 PM IST
  • महोबा जिले के माधवगंज गांव की सालो पुरानी परंपरा तोड़ शादी रचाने जा रहे दलित युवक अलखराम के सामने बड़ी मुसीबत खड़ी हो गई है. पुलिस की जांच में पता चला है कि जिस लड़की से अलखराम शादी करने जा रहा है वह नाबालिग है. पुलिस ने इस मामले में कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है.
दलित युवक अलखराम जिस लड़की से शादी करने जा रहा है वह नाबालिग है

उत्तर प्रदेश के महोबा जिले के माधवगंज गांव की सालों पुरानी परंपरा तोड़ शादी रचाने जा रहे दलित युवक अलखराम के सामने नई मुसीबत सामने आ गई है. खबर है कि दलित य़ुवक अलखराम जिस लड़की से शादी करने वाला था वो नाबालिग है. ऐसे में अपनी शादी में घोड़ी चढ़ने का अलखराम का सपना टूट सकता है. कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने भी अलखराम को मदद का पूरा भरोसा दिया था. बता दें कि महोबा के माधवगंज गांव में अभी तक किसी दलित ने घोड़ी पर चढ़कर बारात नहीं निकाली थी. सालों पुरानी इसी परंपरा को अलखराम तोड़ना चाहता था.

गौरतलब है कि 18 जून को होने वाली अलखराम की शादी के कार्ड भी बंट चुके थे. अलखराम ने जब घोड़ी चढ़ने के लिए प्रशासन से सुरक्षा मांगी तो मामला सुर्खियों में आ गया. सोशल मीडिया पर घोड़ी चढ़ेगा अलखराम ट्रेंड करने लगा. देखते ही देखते अलखराम की शादी राजनीतिक अखाड़ा बन गई. खबर फैलते ही आजाद समाज पार्टी, भीम आर्मी, सपा और कांग्रेस समेत अन्य संगठनों के नेता अलखराम से मिलने पहुंचने लगे.

अलखराम ने प्रियंका गांधी को पत्र लिखकर शादी में आने का न्योता भी दिया था. अलखराम ने प्रियंका गांधी को लिखे पत्र में कहा था कि दीदी शादी में आएंगी तो हमें बहुत खुशी मिलेगी. इसके बाद प्रियंका गांधी ने अलखराम के लिए घोड़ी की व्यवस्था करने के लिए कांग्रेसियों को उसके पास भेजा था. कांग्रेसियों ने शादी में हरसंभव मदद करने की बात कही थी.

लखनऊ: लोहिया अस्पताल परिसर में पुलिसकर्मी ने युवक को मारी गोली, सरेंडर

गांव में कब से चल रही प्रथा, कोई नहीं जानता

गांव में दलित दूल्हे को घोड़ी न चढ़ने देने की प्रथा ना जाने कितने समय से चल रही है. जब हिंदुस्तान ने इस मामले की जांच की तो पता चला कि शिक्षा का आभाव होने की वजह से आज भी ग्रामीण उसी सोच पर टिके हैं. एक 70 साल से ज्यादा के बुजुर्ग का कहना है कि जबसे उन्होंने होश संभाला है तबसे किसी दलित की बारात घोड़ी पर नहीं निकली है. ये प्रथा कबसे है किसी को नहीं पता.

लखनऊ: रेमेडिसविर समेत कई दवाओं की कालाबाजारी के आरोप में डॉक्टर समेत 6 अरेस्ट

पुलिस की जांच में साबित हुई लड़की के नाबालिग होने की बात

महोबा के अपर पुलिस अधीक्षक आरके गौतम ने इस संबंध में कहा था कि अलखराम कैसे भी शादी करे यह उसकी मर्जी है. अगर उसने सुरक्षा मांगी है तो दी जाएगी लेकिन अगर लड़का या लड़की में कोई भी नाबालिग है तो इस शादी को नहीं होने दिया जाएगा. दरअसल जब सुरक्षा के कारण से पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला की लड़की की उम्र 18 साल से कम है. मामले की हकीकत की जांच के लिए कलपहाड़ सीओ तेज बहादुर को भेजा गचा. जांच में लड़की के नाबालिग होने की बात सच साबित हुई. अब इस पूरे मामले में कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें