यूपी के 9 मेडिकल कॉलेजों में 3 हजार कर्मचारियों की बंपर भर्ती, जानिये पूरी डिटेल

Sumit Rajak, Last updated: Sat, 13th Nov 2021, 10:53 AM IST
  • उत्तर प्रदेश के नौ मेडिकल कॉलेजों में इसी माह कर्मचारियों की बंपर भर्ती होने जा रही है.इन कॉलेजों में होने वाली भर्तियों की संख्या तीन हजार से अधिक होगी. यह इस सप्ताह शुरू हो जाएगा और एक महीने के भीतर पूरा किया जाना है. इस संबंध में चिकित्सा शिक्षा विभाग और महानिदेशालय ने सभी नौ मेडिकल कॉलेज प्रबंधनों को निर्देश जारी किए हैं.
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के नौ मेडिकल कॉलेजों में इसी माह कर्मचारियों की बंपर भर्ती होने जा रही है. ये नए मेडिकल कॉलेज हैं जिनका लोकार्पण गत महीने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था. इन कॉलेजों में होने वाली भर्तियों की संख्या तीन हजार से अधिक होगी. यह इस सप्ताह शुरू हो जाएगा और एक महीने के भीतर पूरा किया जाना है. इस संबंध में चिकित्सा शिक्षा विभाग और महानिदेशालय ने सभी नौ मेडिकल कॉलेज प्रबंधनों को निर्देश जारी किए हैं. अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाएं बढ़ाने के साथ ही नए मेडिकल कॉलेज भी बनाए गए हैं. राज्य सरकार ने प्रदेश के हर जिले में मेडिकल कॉलेज बनाने का लक्ष्य रखा है.

 हाल के वर्षों में चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में बहुत काम किया गया है. कोरोना काल में इस काम में और तेजी आई. अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाओं को बढ़ाने के साथ-साथ नए मेडिकल कॉलेज भी बनाए गए हैं. राज्य सरकार ने राज्य के हर जिले में मेडिकल कॉलेज स्थापित करने का लक्ष्य रखा है. जबकी अभी तक इस अनुपात में डॉक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ की उपलब्धता नहीं हो पाई है. वर्तमान में, उन नौ मेडिकल कॉलेजों में कर्मचारियों की तैनाती की जा रही है, जिन्हें राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) द्वारा पिछले महीने 20 अक्टूबर को शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए अनुमति दी गई थी. इनमें फतेहपुर, एटा, मिर्जापुर, जौनपुर, सिद्धार्थनगर, देवरिया, हरदोई, प्रतापगढ़, गाजीपुर के मेडिकल कॉलेज शामिल हैं.

सर्राफा बाजार 13 नवंबर का रेट: लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, मेरठ, आगरा, प्रयागराज, गोरखपुर में सोना स्थिर, चांदी हुई महंगी

चिकित्सा शिक्षा विभाग और महानिदेशालय ने सभी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को निर्देश दिए हैं कि चयनित कंपनियों के जरिए होने वाली इस भर्ती प्रक्रिया पर पूरी नजर रखें. उन्हें तत्काल पदों को विज्ञापित करने को कहा गया है. यह भी कहा गया है कि आउटसोर्सिंग एजेंसियों द्वारा अभ्यर्थियों से अवैध वसूली किए जाने की शिकायतें पूर्व में मिलती रही हैं. इस बात को लेकर विशेष नजर रखी जाए कि चयन प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी रहे.

आउटसोर्सिंग के जरिए होगी भर्ती

इन नौ मेडिकल कॉलेजों में स्थाई स्टाफ की नियुक्ति की प्रक्रिया में अभी समय लगेगा. ऐसे में आउटसोर्सिंग के जरिए भर्ती की जाएगी. विभागीय सूत्रों के अनुसार प्रत्येक महाविद्यालय के लिए 683 सहित अधिकतम पैरामेडिकल स्टाफ की संख्या निर्धारित की गई है. लेकिन फिलहाल जरूरत के हिसाब से हर कॉलेज में 300 से 400 के बीच भर्ती की जाएगी.

भर्ती प्रक्रिया पर नजर रखने के निर्देश

चिकित्सा शिक्षा विभाग और महानिदेशालय ने सभी मेडिकल कॉलेज प्रबंधन को चयनित कंपनियों के माध्यम से इस भर्ती प्रक्रिया पर कड़ी नजर रखने का निर्देश दिया है. उन्हें तुरंत पदों का विज्ञापन करने को कहा गया है. यह भी कहा गया है कि पूर्व में आउटसोर्सिंग एजेंसियों द्वारा उम्मीदवारों से अवैध वसूली की शिकायतें प्राप्त हुई हैं. चयन प्रक्रिया पूरी तरह से पारदर्शी हो, इसका विशेष ध्यान रखा जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें