UP पंचायत चुनाव: परिसीमन, ग्राम प्रधान के 880 पद घटे और 5 ब्लाक प्रमुख पद बढ़े

Smart News Team, Last updated: 19/01/2021 10:28 AM IST
साल 2015 में हुए उत्तर प्रदेश के त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव के मुकाबले इस बार राज्य में ग्राम प्रधानों के 880 पद कम हो गये हैं. विकास खण्डों की संख्या बढ़कर 821 से 826 हो गयी. ब्लाक प्रमुख के पांच पद बढ़ गए है. यह आंकड़े परिसीमन के बाद पंचायतीराज निदेशालय ने सोमवार को राज्य निर्वाचन आयोग को सौंपे है.
UP पंचायत चुनाव: परिसीमन, ग्राम प्रधान के 880 पद घटे और 5 ब्लाक प्रमुख पद बढ़े

लखनऊ. साल 2015 में हुए उत्तर प्रदेश के त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव के मुकाबले इस बार राज्य में ग्राम प्रधानों के 880 पद कम हो गये हैं. विकास खण्डों की संख्या बढ़कर 821 से 826 हो गयी है. अब क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष यानी कि ब्लाक प्रमुख के पदों में पांच पद बढ़ गए है.

वर्ष 2015 में हुए पंचायत चुनाव में यूपी में कुल 59,074 ग्राम प्रधानों के पद पर चुनाव हुए थे. इस बार हुए संक्षिप्त परिसीमन में 880 ग्राम पंचायतें शहरी क्षेत्र में शामिल कर लिये जाने के कारण इस बार कुल 58,194 ग्राम प्रधानों के पद पर ही चुनाव होंगे.

UP पंचायत चुनाव: जल्द जारी होगी वोटर लिस्ट , NOC के जुगाड़ में जुटे प्रत्याशी

ग्राम पंचायतों के वार्ड भी कम हो गये हैं. साल 2015 के पंचायत चुनाव में राज्य में कुल 7 लाख 44 हजार 558 ग्राम पंचायत सदस्यों पर चुनाव हुए थे. इस बार 7 लाख 31 हजार 813 ग्राम पंचायत के सदस्यों के पद पर ही चुनाव होंगे. यह आंकड़े उस रिपोर्ट के है जो कि त्रि- स्तरीय पंचायत चुनाव की तैयारियों के तहत पंचायतीराज निदेशालय ने सोमवार को राज्य निर्वाचन आयोग को सौंपे. 

यूपी MLC चुनाव: BJP के 10 प्रत्याशियों ने भरा नामांकन, विधानभवन में घुसे समर्थक

कुल 71 जिलों में इस बार संक्षिप्त परिसीमन हुआ. गोण्डा, गौतमबुद्धनगर, मुरादाबाद और सम्भल में पूर्ण परिसीमन हुआ क्योंकि 2015 में कानूनी अड़चन के कारण इन जिलों में परिसीमन नहीं हो सका था. नये आंकड़ों के मुताबिक आजमगढ़  सबसे ज्यादा 1858 ग्राम पंचायतों वाला जिला है. वहीं सबसे ज्यादा ग्राम पंचायतें 160 गोण्डा जिले में बढ़ी हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें