कोरोना से बचाने के लिए आम लोगों पर रासुका का डंडा चलाएगी योगी सरकार

Smart News Team, Last updated: Fri, 16th Apr 2021, 6:42 PM IST
यूपी में कोरोना के मामलों से निपटने के लिए योगी सरकार आम लोगों पर रासुका का डंडा चलाएगी. यूपी सरकार ने पंचायत चुनाव के आगामी चरणों पर एक स्थान पर 5 लोगों से ज्यादा के जुटने पर एनएसए के तहत कार्रवाई करने का आदेश दिया है. अपर मुख्य सचिव गृह विभाग अवनीश ने बताया कि पंचायत चुनाव के दौरान नियमों का उल्लंघन करने वाले पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.
यूपी पंचायत चुनाव में एक जगह पर 5 से ज्यादा लोगों के इकट्ठे होने पर कार्रवाई होगी.

लखनऊ. कोरोना से जनता को बचाने के लिए योगी सरकार ने सख्त कदम उठाने का फैसला किया है. योगी सरकार ने आम लोगों पर रासुका का डंडा चलाने का आदेश जारी कर दिया है. पंचायत चुनाव को देखते हुए आगे के चरणों में एक जगह पर अगर पांच से ज्यादा लोग इकठ्ठा होते हैं तो उनपर एनएसए के तहत कार्रवाई की जाएगी. अपर मुख्य सचिव गृह विभाग अवनीश अवस्थी ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी.

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में मास्क लगाने को लेकर कड़े दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, मास्क नहीं लगाने पर भारी जुर्माना किया जाएगा. रेल के अंदर और रेलवे स्टेशनों पर मास्क पहनना जरूरी कर दिया गया है. उन्होंने कहा कि बाहर से जो लोग आ रहे हैं उनकी कोरोना टेस्टिंग कराई जाएगी.

CM योगी का निर्देश- UP में कोरोना मरीज को भर्ती करने से किया मना तो होगा केस

अवनीश अवस्थी ने कहा कि कल पंचायत चुनाव का प्रथम चरण संपन्न हुआ है. लगभग 51 हजार बूथों पर चुनाव हुआ. 4-6 बूथों को छोड़कर सभी जगह शांतिपूर्ण मतदान हुआ है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने पंचायत चुनाव से जुड़े हुए अधिकारियों और कर्मचारियो को बधाई दी है. वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश में हर रविवार को लाॅकडाउन लगाने की घोषणा की है.

UP में रविवार को लॉकडाउन, CM योगी ने सभी मंडलायुक्त, DM को दिए जरूरी दिशा-निर्देश

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में कोरोना से हालात बेकाबू होते जा रहे हैं. पिछले 24 घंटे में यूपी में 22 हजार 439 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई है. नए केसों के बाद प्रदेश में कुल एक्टिव मामले 1 लाख 29 हजार 848 हो गए हैं. बीते 24 घंटे में 4 हजार 222 मरीज पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं और 104 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें