CM योगी को धमकी देने वाले नौशाद को वेस्ट बंगाल से पकड़ लाई यूपी पुलिस, अब...

Smart News Team, Last updated: Sat, 20th Nov 2021, 7:08 PM IST
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को वेस्ट बंगाल के रानीगंज से ट्विटर पर धमकी दी गई थी. इसका पता यूपी की लखनऊ पुलिस ने पता लगान के बाद रानीगंज रेलवे स्टेशन के नजदीक से मोहम्मद नाौशाद नाम के युवक को गिरफ्तार किया है.
फोटो- यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनने के बाद लगातार जान से मारने की धमकी मिलने के मामले सामने आते रहे हैं. इसी क्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को वेस्ट बंगाल के रानीगंज से ट्विटर पर धमकी दी गई थी. इसका पता यूपी की लखनऊ पुलिस ने पता लगान के बाद रानीगंज रेलवे स्टेशन के नजदीक से मोहम्मद नौशाद नाम के युवक को गिरफ्तार किया है.

जानकारी के मुताबिक इस आरोपी को यूपी पुलिस अपने साथ लेकर लखनऊ चली गई है. बताया जा रहा है कि इस आरोपी ने रानीगंज से ट्विटर पर योगी आदित्यनाथ के लिए अपशब्द कहे थे और धमकी दी थी. आरोपी नौशाद सड़क किराने बैठकर बटन बेचता है. यह भी जानकारी मिली है कि गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने आसनसोल कोर्ट में पेश किया था जिसके बाद यूपी पुलिस उसे ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ ले गई.

प्रधानमंत्री नारी शक्ति योजना के तहत सरकार महिलाओं को दे रही 2.20 लाख रूपये?

पुलिस को है गहरी साजिश का शक

कहा जा रहा है कि आरोपित ट्विटर का इस्तेमाल करता है इसलिए यूपी पुलिस को गहरी साजिश लगती है. वहीं पुलिस को लगता है कि मोहम्मद नौशाद सड़क के किनारे सिर्फ फेरी करने वाला सामान्य शख्स नहीं है. ट्विटर का इस्तेमाल करने के बाद लखनऊ पुलिस को उस पर शक है.

प्रधानमंत्री नारी शक्ति योजना के तहत सरकार महिलाओं को दे रही 2.20 लाख रूपये?

मोदी व योगी को दी थी जान से मारने की धमकी

जानकारी के मुताबिक 5 नवंबर 2021 को आरोपित ने अपने ट्विटर एकाउंट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी दी है. लखनऊ पुलिस ने ट्विटर कंपनी से आरोपित के ट्वीट की जांच कराई. ट्विटर कंपनी ने आरोपित की पहचान की.

लगातार लोकेशन ट्रैक कर रही थी पुलिस

इसके बाद लखनऊ पुलिस मोहम्मद नौशाद के मोबाइल लोकेशन को लगातार ट्रैक करती रही. नौशाद लगातार ठिकाना बदल रहा था. इस कारण पुलिस उसकी घेराबंदी नहीं कर पा रही थी. लखनऊ पुलिस ने जब उसे लगातार रानीगंज में रहते पाया तब धावा बोला गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें