UP पुलिस ने शूटर गिरधारी का शव परिजनों को सौंपा, गांव में अंतिम संस्कार की तैयारी

Smart News Team, Last updated: Wed, 17th Feb 2021, 7:57 PM IST
  • पुलिस मुठभेड़ में मारे गए अजीत सिंह हत्याकांड के आरोपी गिरधारी का शव परिजनों को सौंप दिया गया था. देर शाम तक शव के गांव में आने की संभावना है. परिजन अंतिम संस्कार की तैयारी में लग गए हैं.
अजीत सिह मर्डर केस का मुख्य आरोपी गिरधारी 15 फरवरी को पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था. प्रतीकात्मक तस्वीर

लखनऊ. यूपी पुलिस के एनकाउंटर में मारा गया अजीत सिंह हत्याकांड का आरोपी गिरधारी का शव परिजनों को सौंप दिया गया है. लखनऊ पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद मृतक शूटर गिरधारी का शव छोटे भाई संजय और राकेश विश्वकर्मा को सौंपा है. देर शाम तक चोलापुर के लखनपुर गांव में शव के आने की संभावना है. गांव में परिजन अंतिम संस्कार की तैयारी में जुट गए हैं.

इस बारे में मृतक शूटर गिरधारी के भाई राजेश ने बताया कि मंगलवार को देर शाम लखनऊ पुलिस ने घर आकर पोस्टमार्टम के बाद सुपुर्दगी की नोटिस दी. छोटे भाई संजय और राकेश लखनऊ में ही थे. शाम को संजय ने शव के मिलने की सूचना दी है. जिसके बाद अंतिम संस्कार की तैयारी में लग गए हैं.इससे पहले हिस्ट्रीशीटर अजीत सिंह की हत्या के मुख्य आरोपी गिरधारी सिंह 13 फरवरी से पुलिस की रिमांड पर था. 

लखनऊ में अवैध प्लॉटिंग का धंधा जोरों पर, दोगुनी कीमत वसूल रहे प्रॉपर्टी डीलर्स

लखनऊ पुलिस और वाराणसी पुलिस ने बीते रविवार को आरोपी से कई घंटे पूछताछ भी की थी. जिसके बाद सोमवार की सुबह आरोपी गिरधारी ने पुलिस की गिरफ्त से भागने की कोशिश की. इसी दौरान पुलिस मुठभेड़ में गिरधारी सिंह मारा गया है.जिसके बाद सीजेएम सुशील कुमारी ने पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गिरधारी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सीसीटीवी कैमरे और मेडिकल बोर्ड से कराने के निर्देश दिए. मंगलवार को सीजेएम ने पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गिरधारी की मौत की लिखित सूचना न देने पर नोटिस भेजा है. 

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले 18 लाख गरीबों को घर देगी योगी आदित्यनाथ सरकार

सीजेएम ने अपने नोटिस में कहा कि एनकाउंटर के मामले में संबंधित पुलिस टीम के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज होनी चाहिए. सीजेएम सुशीला कुमारी ने कहा कि एनकाउंटर की सूचना मानवाधिकार आयोग को भी निर्धारित समय में दे देनी चाहिए. साथ ही जांच भी सुनिश्चित करनी चाहिए लेकिन ऐसी किसी भी कार्रवाई का लिखित विवरण अभी तक प्रस्तुत नहीं किया गया है. आपको बता दें कि लखनऊ के विभूतिखंड में 6 फरवरी को अजीत सिंह की हत्या की गई थी. जिसके बाद 11 फरवरी को आरोपी गिरधारी को दिल्ली में गिरफ्तार कर लिया गया था. 

 

लखनऊ में अवैध प्लॉटिंग का धंधा जोरों पर, दोगुनी कीमत वसूल रहे प्रॉपर्टी डीलर्स

जिसके बाद सीजेएम सुशील कुमारी ने पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गिरधारी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सीसीटीवी कैमरे और मेडिकल बोर्ड से कराने के निर्देश दिए. मंगलवार को सीजेएम ने पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गिरधारी की मौत की लिखित सूचना न देने पर नोटिस भेजा है. सीजेएम ने अपने नोटिस में कहा कि एनकाउंटर के मामले में संबंधित पुलिस टीम के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज होनी चाहिए.

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले 18 लाख गरीबों को घर देगी योगी आदित्यनाथ सरकार

सीजेएम सुशीला कुमारी ने कहा कि एनकाउंटर की सूचना मानवाधिकार आयोग को भी निर्धारित समय में दे देनी चाहिए. साथ ही जांच भी सुनिश्चित करनी चाहिए लेकिन ऐसी किसी भी कार्रवाई का लिखित विवरण अभी तक प्रस्तुत नहीं किया गया है. आपको बता दें कि लखनऊ के विभूतिखंड में 6 फरवरी को अजीत सिंह की हत्या की गई थी. जिसके बाद 11 फरवरी को आरोपी गिरधारी को दिल्ली में गिरफ्तार कर लिया गया था. 

|#+|

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें