हाथरस कांड: लखनऊ में सपा के प्रदर्शन पर लाठीचार्ज, नेताओं को पुलिस ने पीटा

Smart News Team, Last updated: 01/10/2020 06:09 PM IST
  • हाथरस मामले पर गुरूवार को लखनऊ के हजरतगंज चौराहे पर समाजवादी पार्टी यूथ के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया. जिसके बाद पुलिस ने कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज किया. सपा कार्यकर्ताओं ने आरोपियों को सजा देने की मांग की. 
हाथरस मामले को लेकर लखनऊ में सपा यूथ ब्रिगेड ने विरोध प्रदर्शन किया.

लखनऊ. हाथरस की घटना को लेकर पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. गुरूवार को लखनऊ के हजरतगंज चौराहे पर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने हाथरस घटना पर विरोध प्रदर्शन किया. जिसके बाद पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज किया. समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने योगी सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाए.

राजधानी लखनऊ में गुरूवार को समाजवादी पार्टी के यूथ ब्रिगेड ने हाथरस मामले में विरोध प्रदर्शन किया. समाजवादी कार्यकर्ताओं योगी सरकार की कानून व्यवस्था के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे. कार्यकर्ताओं ने हाथरस घटना के आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने की मांग की. 

पुलिस ने सपा कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई करते हुए लाठीचार्ज किया. जिसमें दर्जन भर सपा कार्यकर्ता चोटिल हो गए और पवन सरोज का सिर फट गया. पुलिस ने मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष और सपा युवजन सभा के प्रदेश अध्यक्ष अरविंद गिरी समेत 50 सपाइयों को हिरासत में लेकर आलमबाग के इकोगॉर्डन में छोड़ दिया.

हाथरस गैंगरेप: पीड़ित परिवार से मिलने हाथरस जा रहे राहुल और प्रियंका अरेस्ट

आपको बता दें कि हाथरस मामले में अखिलेश यादव योगी सरकार पर जमकर निशाना साध रहे हैं. गैंगरेप पीड़िता के दाह संस्कार के बाद अखिलेश यादव ने कहा था कि हाथरस की बेटी बलात्कार-हत्याकांड में शासन के दबाव में, परिवार की अनुमति बिना, रात्रि में पुलिस द्वारा अंतिम संस्कार करवाना, संस्कारों के विरुद्ध है. ये सबूतों को मिटाने का घोर निंदनीय कृत्य है. सरकार ने ऐसा करके पाप भी किया है और अपराध भी. 

लखनऊ: मेयो अस्पताल में मरीज की मौत, परिजनों ने गोमती नगर थाने में दर्ज कराई FIR

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री सीएम योगी आदित्यनाथ ने हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजनों को आश्वासन दिया कि पीड़िता को जल्द न्याय मिलेगा और परिवार की हर संभव कोशिश की जाएगी. सरकार की ओर से पीड़िता के परिवार के 25 लाख रूपए देने की घोषणा की.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें