पत्रकार की मौत, परिवार ने छोड़ा लावारिस, पुलिस वालों ने किया अंतिम संस्कार

Smart News Team, Last updated: Fri, 30th Apr 2021, 11:41 PM IST
  • लखनऊ में पुलिसकर्मियों ने मिलकर एक पत्रकार का अंतिम संस्कार किया. मीडिया में काम करने वाले चंदन प्रताप सिंह का निधन हो जाता है. पुलिस रिश्तेदारों, दोस्तों यहां तक की ऑफिस के लोगों को भी फोन करती है लेकिन कोई भी नहीं आता. ऐसे में पुलिसकर्मी मृत को अपना मानकर उसका अंतिम संस्कार करते हैं.
लखनऊ में पत्रकार का अंतिम संस्कार पुलिस वालों ने किया.

लखनऊ. यूपी की राजधानी में कोरोना का इतना खौफ है और हर किसी के मन में इतना डर बैठ गया है कि एक पत्रकार का निधन होने पर उसका शव लावारिस पड़ा रहता है. परिवार होने के बावजूद पत्रकार का शव कई घंटे घर में पड़ा रहा लेकिन कोई भी संस्कार के लिए नहीं लेकर गया. कोरोना का इतना खौफ था कि अपने रिश्तेदारों ने भी मुंह मोड़ लिया. वहीं सूचना मिलने पर गोमतीनगर थाने के पुलिस कर्मी पहुंचे और उन्होनें चंदन सिंह को अपना मानकर उसका अंतिम संस्कार किया.

यूपी के गाजीपुर पाटेपुर के रहने वाले पत्रकार चंदन प्रताप सिंह लखनऊ में विरामखंड-पांच में किराए के घर में रहते थे. चंदन की पत्नी उन्हें छोड़कर चली गई थी. एसीपी गोमतीनगर डॉ. श्वेता श्रीवास्तव के अनुसार घर से दुर्गंध आने पर मकान मालिक ने पुलिस को सूचित किया था. पुलिस के पहुंचने पर उन्हें चंदन का शव मिला. चंदन के घर से कई दवाईयां मिली हैं. एसीपी के अनुसार चंदन डायबटिज और हाई ब्लडप्रेशर जैसी बीमारियों से जूझ रहा था.  

सीएम योगी का निर्देश- UP के छोटे जिलों में ऑक्सीजन की सप्लाई पर दें विशेष ध्यान

चंदन के मोबाइल से उसमें दर्ज फोन नंबरों पर कॉल कर उसकी मौत की सूचना दी गई. एसीपी के मुताबिक चंदन के परिवार के कुछ लोग कलकत्ता में रहते हैं और कुछ गाजीपुर में रहते हैं. सभी को फोन किया गया. वहीं चंदन के कुछ दोस्तों को भी फोन किया गया लेकिन कोई उसका शव लेने को तैयार नहीं था. ऐसी स्थिति में आने के बाद पुलिस ने ही चंदन का अंतिम संस्कार किया. 

योगी सरकार का आदेश, 7 मई तक यूपी और मध्य प्रदेश के बीच नहीं चलेंगी बसें 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें