लखीमपुर खीरी: केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के घर पर यूपी पुलिस ने चिपकाया नोटिस

Ankul Kaushik, Last updated: Thu, 7th Oct 2021, 10:59 PM IST
  • उत्तर प्रदेश पुलिस ने लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के घर पर नोटिस चिपकाया है. इसके साथ ही पुलिस ने इस नोटिस को चिपकाते हुए लखीमपुर खीरी हिंसा केस में आरोपी आशीष मिश्रा (मोनू) को तलब किया है.
यूपी पुलिस ने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के घर पर चिपकाया नोटिस

लखनऊ. लखीमपुर खीरी हिंसा में अब उत्तर प्रदेश पुलिस ने सख्त रुख दिखाते हुए केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र के शाहपुरा कोठी थाना कोतवाली सदर स्थित आवास पर नोटिस चिपकाया है. इस नोटिस में अजय मिश्र के बेटे आशीष मिश्र उर्फ मौनू भईया को 8 अक्टूबर को पुलिस लाइन क्राइम ब्रांच में उपस्थित होने को कहा गया है. इस नोटिस से अब साफ हो गया है कि काफी दिनों से भाग रहे आशीष मिश्र को सुबह 10 बजे खीरी में पुलिस के सामने पेश होना होगा. इस नोटिस में साफ लिखा है कि आशीष मिश्र पुलिस के सामने व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर वस्तु, लिखित, मौखिक और इलेक्टॉनिक सबूत दिखाए. मतलब साफ है कि आशीष मिश्र को पुलिस के समक्ष पेश होकर घटना के संबंध में जो भी जानकारी है वह देनी होगी.

वहीं खबरों की मानें तो केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने कई टीमों का गठन किया है. पुलिस आशीष की गिरफ्तारी के लिए दबिश भी दे रही है और कई इलाकों में छापेमारी की जा रही है. गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी हिंसा में आशीष के खिलाफ हत्या के साथ ही कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. इससे पहले पुलिस महानिरीक्षक ने आशीष मिश्रा को समन भजते हुए साफ कहा था कि अगर वह समय पर पूछताछ के लिए नहीं आता तो उसके खिलाफ विधिक प्रक्रिया अपनाई जाएगी.

लखीमपुर खीरी कांड: मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मोनू को पुलिस पूछताछ का समन

बता दें कि 3 अक्टूबर को यूपी के लखीमपुर खीरी में किसानों और बीजेपी नेताओं के बीच झड़प हुई था. यह झड़प उस समय हुई जब केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के गांव में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य एक कार्यक्रम में शामिल होने आ रहे थे. वहीं इस झड़प में चार किसानों सहित आठ लोगों की मौत हुई थी. इस घटना का आरोप केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष पर लगा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें