यूपी पुलिस के 8 सिपाहियों पर डकैती का केस, अगवा कर 40 लाख वसूलने का आरोप

Sumit Rajak, Last updated: Wed, 24th Nov 2021, 9:52 AM IST
  • डीसीपी पूर्वी की क्राइम टीम में तैनात 8 पुलिसवालों के खिलाफ मंगलवार को कानपुर के काकादेव थाने में डकैती का मुकदमा दर्ज किया गया है. यह मुकदमा कोर्ट के आदेश पर लिखा गया है.आरोप है कि पुलिस वालों ने दुर्गा के घर में 30 हजार रुपये और सवा लाख के गहने लूटे थे.वही रिश्तेदार अजय सिंह से आरोपी पुलिसकर्मियों ने 40 लाख  रुपये वसूले थे.
प्रतीकात्मक फोटो

 लखनऊ. डीसीपी पूर्वी की क्राइम टीम में तैनात 8 पुलिसवालों के खिलाफ मंगलवार को कानपुर के काकादेव थाने में डकैती का मुकदमा दर्ज किया गया है. यह मुकदमा कोर्ट के आदेश पर लिखा गया है. एफआईआर के लिखने वाले रेखा संचालक मयंक ने आरोप लगाया कि आरोपी पुलिस वाले उसे 24 जनवरी को जबरन बंधक बनाकर लखनऊ ले गए और कैंट कोतवाली में बंधक बनाकर पीटा. छोड़ने के नाम पर उनके दो मामा से 40 लाख  रुपये वसूले. इस एफआईआर के दर्ज होते ही कानपुर और लखनऊ पुलिस में हड़कंप मच गया.

मयंक ने आरोप लगाया कि सब इंस्पेक्टर रजनीश ने उसके दूसरे मामा विक्रम को फोन कर 40 लाख  रुपये देने के लिए कहा था. इतनी बड़ी रकम देने में विक्रम ने असमर्थता जताई इस पर उसे कोतवाली में बंधक बनाकर रखा गया था.

UP की पढ़ी-लिखी विधानसभा, 73% ग्रेजुएट व 24 फीसदी 12वीं पास और 5 डिप्लोमाधारी हैं MLA

रिश्तेदार के घर लूट का आरोप

मयंक ने बताया कि मामा दुर्गा को पुलिस वाले कल्याणपुर ले गए थे. आरोप है कि पुलिस वालों ने मुर्गा के घर में 30 हजार रुपये और सवा लाख के गहने लूटे थे. वहीं, रिश्तेदार अजय सिंह से आरोपी पुलिसकर्मियों ने 40 लाख  रुपये वसूले थे.

फर्जी मुकदमे में फंसाया

मयंक के मुताबिक लूट के बाद पुलिसकर्मियों ने उसे गोमतीनगर विस्तार थाने के एक मुकदमे में फंसा दिया था. पीड़ित के परिवार ने पुलिसकर्मियों का ज्यादती के खिलाफ कोर्ट में अर्जी दायर की. थी जहां से आदेश मिलने के बाद इंस्पेक्टर रजनीश वर्मा समेत आठ पुलिसकर्मियों के खिलाफ मारपीट और डकैती की धारा में एफ आई आर दर्ज की गई है.

NEET 2021: काउंसलिंग की तारीख तय नहीं, मेडिकल सत्र में हो रही देरी

रेस्त्रां से अगवा करने को आरोप

शास्त्री नगर निवासी मयंक सिंह बीबीए का छात्र है.वह एक रिश्ता भी चलाता है. मयंक के मुताबिक 24 जनवरी को वह दोस्त आकाश के साथ काकादेव स्थित एक चाय के होटल पर गया था. कुछ लोग उसे जबरन कार में बैठाकर ले गए थे. मयंक के अनुसार कार से उसे लखनऊ की कैंटट कोतवाली लाया था. जहां मयंक के मामा दुर्गा भी मौजूद थे. युवक के अनुसार उसे कार में जबरन बैठाने वाला व्यक्ति डीसीपी पूर्वी की क्राइम ब्रांच में तैनात इंस्पेक्टर रजनीश वर्मा था. उसे और उसके मामा को हिरासत में लेने के कारण भी नहीं बताया गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें