बलिया गोलीकांड: यूपी STF ने लखनऊ से गिरफ्तार किया मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह

Smart News Team, Last updated: 21/10/2020 05:04 PM IST
  • बलिया गोली कांड के मुख्य आरोपी धीरेन्द्र प्रताप सिंह को एसटीएफ ने लखनऊ के जनेश्वर पार्क से अरेस्ट किया. धीरेन्द्र पर कोटा आवंटन के दौरान गोली चलाने का आरोप है.
बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह 3 दिन बाद गिरफ्तार.

लखनऊ. बलिया गोली कांड के मुख्य आरोपी धीरेन्द्र प्रताप सिंह को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया है. एसटीएफ ने धीरेन्द्र प्रताप को लखनऊ के जनेश्वर पार्क से अरेस्ट किया. धीरेन्द्र पर कोटा आवंटन के दौरान गोली चलाने का आरोप है. पुलिस कई दर्जन भर से ज्यादा टीमें उसकी खोज में लगी हुईं थीं. विधायक सुरेन्द्र सिंह को धीरेन्द्र के पक्ष में बयान देने पर लखनऊ तलब किया गया है.

बलिया कांड के आरेापी धीरेन्द्र सिंह को एसटीएफ की टीम ने रविवार को जनेश्वर पार्क से गिरफ्तार किया. धीरेन्द्र सिंह को पकड़ने के लिए 12 से ज्यादा थानों की पुलिस लगी हुई थी. बताया रहा है कि विधायक सुरेन्द्र सिंह ने आरोपी के पक्ष में बयान दिया था. जिसके बाद विधायक को लखनऊ से बुलावा आया है. माना जा रहा है कि यूपी बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह विधायक से पूछताछ करेंगे.

 

आपको बता दे कि ये घटना बलिया के रेवती क्षेत्र की पंचायत की है. यहां दर्जनपुर और हनुमानगंज की दो दुकानें के आवंटन के लिए गुरूवार को पंचायत भवन में खुली बैठक बुलाई गई थी. इस बैठक में गांवों वालों के अलावा एसडीएम बैरिया सुरेश पाल, सीओ चन्दकेश सिंह, बीडीओ गजेन्द्र प्रताप सिंह और रेवती थाने की फोर्स मौजूद थी. 

CM योगी का ऐलान, यूपी पुलिस में 20 प्रतिशत महिलाओं की भर्ती

इस मीटिंग में जब दर्जनपुर की दुकान पर सहमति नहीं बनी तो वोटिंग कराने का फैसला किया गया. जिसके बाद बैठक में हंगामा शुरू हो गया. हंगामा को देखकर अधिकारियों ने मीटिंग को वहीं स्थिगत कर दी. जिसके बाद वहां मारपीट शुरू हो गई. इस मारपीट मं धीरेन्द्र प्रताप सिंह ने गोली चला दी. गोली लगने से जयप्रकाश की मौत हो गई.

लखनऊ: हाेर्डिंग लगाते समय हाईटेंशन लाइन की चपेट में आए दो युवक, मौके पर मौत

इस घटना के बाद आरोपी फरार हो गए. मृतक के परिजनों ने पुलिस थाने में 8 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया. जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों पर 75-75 हजार का ईनाम घोषित किया. आरोपियों को पकड़ने के लिए दर्जन भर से ज्यादा थाने की पुलिस लगी रही. तीन दिनों के अंदर पुलिस पांच आरोपियों को अरेस्ट कर चुकी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें