UP में ब्लैक फंगस का कहर, IIT कानपुर के छात्र समेत दो की मौत, 10 भर्ती

Smart News Team, Last updated: Tue, 25th May 2021, 10:39 PM IST
  • आईआईटी के छात्र को पिछले हफ्ते मंगलवार को पीजीआई में भर्ती कराया गया था. जांच में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई. डॉक्टरों ने मरीज की जान बचाने के लिए ऑपरेशन किया. मंगलवार को इलाज के दौरान मरीज की मौत हो गई.
ब्लैक फंगस से लखनऊ में दो मरीजों की मौत ( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ: कोरोना के बाद ब्लैक फंगस ने यूपी में अपना कहर बरपाया है. ब्लैक फंगस से आए दिन 4 से 5 मरीजों की मौत हो रही है. लेकिन आज लखनऊ में इलाज के दौरान दो मरीजों की मौत हुई. उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा मरीज केजीएमयू में भर्ती हैं. बुधवार को ब्लैक फंगस की चपेट में कोई और नहीं बल्कि कानपुर आईआईटी में आन्तरिक्ष विज्ञान में पीएचडी कर रहे छात्र की मौत हो गई तो एक और बिहार के 55 वर्षीय पुरुष ने केजीएमयू में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है. बताया जा रहा है की

आईआईटी के छात्र को पिछले हफ्ते मंगलवार को पीजीआई में भर्ती कराया गया था. जांच में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई. डॉक्टरों ने मरीज की जान बचाने के लिए ऑपरेशन किया. मंगलवार को इलाज के दौरान मरीज की मौत हो गई. अबतक लखनऊ के अस्पतालों में भर्ती ब्लैक फंगस मरीजों की संख्या 240 पहुंच गई है. अबतक कुल 21 लोगों ने ब्लैक फंगस से दम तोड़ा है. प्रदेश के विभिन्न जिलों से बड़ी संख्या में लखनऊ के अस्पतालों में मरीज भर्ती किए जा रहे हैं. मंगलवार को 15 नए मरीज भर्ती किए गए हैं.

किसान आंदोलन को कल 6 माह पूरे, मायावती ने कहा- किसानों की समस्या का हल निकाले केंद्र सरकार

केजीएमयू में बीते 24 घंटे में 10 मरीज भर्ती किए गए. अब तक केजीएमयू में 159 मरीज भर्ती किए जा चुके हैं. पीजीआई में तीन नए मरीज भर्ती किए गए हैं. इसके साथ ही पीजीआई में मरीजों की संख्या 27 हो गई है. इंदिरानगर स्थित सीएनएस हॉस्पिटल में दो मरीजों को भर्ती किया गया है.

12 साल तक के बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए हर जिले में बनेगा स्पेशल बूथ- CM योगी

16 मरीजों के ऑपरेशन

केजीएमयू प्रवक्ता डॉ. सुधीर सिंह के मुताबिक ब्लैक फंगस के मरीजों की जान बचाने के लिए डॉक्टरों की टीम लगातार ऑपरेशन कर रही है. 16 मरीजों के ऑपरेशन किए गए हैं. ईएनटी, नेत्र समेत दूसरे विभाग की डॉक्टर मरीजों के ऑपरेशन कर रहे हैं. 60 से ज्यादा मरीजों के ऑपरेशन किए जा चुके हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें