UP चुनाव में ड्यूटी पर लगे अफसरों का न हो किसी पार्टी से संबंध, देना होगा घोषणापत्र

Swati Gautam, Last updated: Sat, 16th Oct 2021, 5:22 PM IST
  • उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर केंद्रीय चुनाव आयोग ने निर्देश जारी किए है जिसमें कहा गया है कि चुनाव ड्यूटी में लगने वाले सभी अफसरों को एक निश्चित प्रारूप पर घोषणा पत्र भरना होगा कि उनका चुनाव लड़ने वाले किसी उम्मीदवार या राजनीतिक दल से कोई सम्बन्ध नहीं है.
UP चुनाव में ड्यूटी पर लगे अफसरों का न हो किसी पार्टी से संबंध, देना होगा घोषणापत्र (file photo)

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियां शुरू हो गई हैं. एक तरफ जहां सभी राजनीतिक पार्टियों ने चुनावी हुंकार भरनी शुरू कर दी है वहीं दूसरी ओर केंद्रीय चुनाव आयोग ने भी विधानसभा चुनाव 2022 में तैनाती को लेकर निर्देश जारी कर दिए हैं. केंद्रीय चुनाव आयोग ने कहा कि इस बार चुनावों में टीचर, डॉक्टर और इंजीनियरों को सामान्यतः चुनाव ड्यूटी से मुक्त रखा जाएगा. साथ ही चुनाव ड्यूटी में लगने वाले सभी अफसरों और कार्मिकों को घोषणा पत्र देना होगा कि उनका चुनाव लड़ने वाले किसी उम्मीदवार या राजनीतिक दल से कोई सम्बन्ध नहीं है और न ही उन पर कोई आपराधिक मुकदमा चल रहा है.

केन्द्रीय चुनाव आयोग ने चुनावों में होने वाली धांदलेबाजी रोकने के लिए यह फैसला लिया है कि यूपी विधानसभा चुनाव में नामांकन दाखिले से दो दिन पहले चुनाव ड्यूटी में लगने वाले सभी अफसरों और कार्मिकों को एक निश्चित प्रारूप पर घोषणा पत्र भरना होगा कि उनका चुनाव लड़ने वाले किसी उम्मीदवार या राजनीतिक दल से कोई सम्बन्ध नहीं है और न ही उन पर कोई आपराधिक मुकदमा चल रहा है. जिसके बाद यह घोषणा पत्र जिला निर्वाचन अधिकारी के जरिये मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेजे जाएंगे.

UP Election 2022: दलितों को साधने में जुटी SP, बाबा साहब वाहिनी के अध्यक्ष बने मिठाई लाल

विधानसभा चुनाव के लिए केंद्रीय चुनाव आयोग ने पुलिस प्रशासन के अफसरों की तैनाती और तबादलों के बारे में निर्देश जारी करते हुए कहा कि यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में गृह जनपद या चार साल एक ही पद और स्थान पर रहे अफसर चुनाव ड्यूटी में नहीं लगेंगे. ऐसे भी अफसर चुनाव ड्यूटी में नहीं लगेंगे जो तीन साल एक ही पद और स्थान पर तैनाती के पूरे कर चुके हैं और आने वाली 31 मई 2022 को जिनका चौथा साल पूरा हो रहा है. इस फैसले में पीछे चुनाव आयोग का मकसद है कि चुनावों को निष्पक्ष रूप से कराया जा सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें