Weather Update: यूपी में इस वजह से गिरेगा पारा, बढ़ेगी ठंड, जानें कल के मौसम का हाल

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Thu, 3rd Feb 2022, 7:21 PM IST
  • मौसम विभाग ने अनुमान लगाया है कि उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में तेज हवा चलने के बीच बारिश भी हो सकती है. वहीं पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण प्रदेश के अलग अलग हिस्‍सों में बादल छाए रहने का अनुमान भी है.
बारिश के चलते पारा एक बार फिर लुढ़कने का अनुमान

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में एक बार फिर ठंड बढ़ने के आसार हैं. फिलहाल अभी भी प्रदेश के लोग तेज सर्द हवाओं के बीच दिन बिताने को मजबूर हैं. ऐसे में लोगों को सर्दी से बचने को लिए सिर से पांव तक पूरे बदन को ढंक कर रखना पड़ रहा है. फिर भी लोगों को सर्दी से निजात मिलती नहीं दिख रही है. मौसम विभाग ने बारिश की वजह से एक बार फिर प्रदेश में मौसम के मिजाज को बदलने की आशंका जताई है. विभाग ने अनुमान लगाया है कि है कि प्रदेश के कई हिस्सों में तेज हवा चलने के साथ बारिश हो सकती है. वहीं पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण प्रदेश के अलग अलग हिस्‍सों में बादल छाए रहने का अनुमान है. ऐसे में आने वाले दिनों में बारिश होने की संभावना बताई जा रही है. इसके आलावा राज्य के कुछ हिस्सों में आकाशीय गर्जना व चमक के साथ आंधी-तूफान चलने की भी आशंका जताई जा रही है.

मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि बारिश के चलते 4 फरवरी को तापमान में एक बार फिर से भारी गिरावट देखी जा सकती है. ठंडी हवाओं की वजह से बढ़ी ठंड लोगों को परेशान कर सकती है. अगले कुछ दिनों तक ऐसा ही मौसम बने रहने की आशंका है. मौसम विभाग ने लखनऊ, सुल्‍तानपुर और आसपास के जिलों में बारिश की सम्‍भावना जताई है. बताया जा रहा है सर्द हवाओं का चलना अगले चार दिन तक जारी रह सकता है. इसके बाद से धीरे-धीरे मौसम में सुधार होने की उम्‍मीद है.

ICSE Board: आईसीएसई 10वीं व 12वीं के रिजल्‍ट जल्द होंगे घोषित, ऐसे करें चेक

प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से ठंड हवा चलने के कारण लोगों को काफी परेशानीयों का सामना करना पड़ रहा है. वैसे तो इस बीच दिन में कभी कभार ही धूप हो जा रही है. लेकिन फिर भी ठंडी से खास राहत नहीं मिल रही है. ऐसे में मौसम विभाग की भविष्‍यवाणी की वजह से लोगों की चिंता और बढ़ गई है. अगले कुछ दिनों में घने कोहरे की आशंका है. इस वजह से सड़क, रेल और हवाई यात्रा भी प्रभावित हो सकती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें