UP की अंतरराज्यीय सीमाओं पर बनेंगे स्वागत द्वार, ऐसे बॉर्डर गेट बनवाएगी यूपी सरकार

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Fri, 3rd Sep 2021, 11:19 PM IST
  • उत्तर प्रदेश सरकार पड़ोसी राज्यों को जोड़ने वाली सभी अंतरराज्यीय सड़कों पर भव्य स्वागत प्रवेश द्वार बनवाएगी. जिसपर लोगों के स्वागत के लिए स्लोगन भी लिखा जाएगा. इसके साथ ही यूपी की सड़को को गड्ढामुक्त करने के लिए अभियान भी चलाने जा रही है.
UP की अंतरराज्यीय सीमाओं पर बनेंगे स्वागत द्वार ऐसे बॉर्डर गेट बनवाएगी यूपी सरकार

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के अंतरराज्यीय सीमाओं पर यूपी सरकार भव्य स्वागत द्वार बनवाएगी. इतना ही नहीं इन स्वागत प्रवेश द्वार पर पड़ोसी राज्यों से आने वाले लोगों का वेलकम करने के लिए स्लोगल भी लिखा जाएगा. इन भव्य स्वागत प्रवेश द्वार को बनाने के लिए यूपी उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को दिया है. वहीं ये द्वार पड़ोसी राज्यों से जोड़ने वाली 105 अंतरराज्यीय मार्गो पर बनाए जाएंगे. 

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने प्रवेश द्वार बनाने के निर्देश देने के साथ ही उन मार्गों और सेतुओं के नामकरण की योजना भी तैयार करने के लिए कहा है. साथ ही योजना तैयार हो जाने पर उसे प्रस्तुत भी करने के लिए कहा है. वहीं पड़ोसी राज्यों को जोड़ने वाली अंतरराज्यीय सड़कों पर स्वागत द्वार का मॉडल लोक निर्माण विभाग ने तैयार कर लिया है. जिनका निर्माण जल्द ही शुरू कर दिया जाएगा. फोर लेन सड़क के लिए स्वागत द्वार का मॉडल अलग तो दो लेन मार्ग के लिए स्वागत द्वार का मॉडल अलग तैयार किया गया है.

यूपी अंतरराज्यीय मार्ग स्वागत द्वार मॉडल

गृहमंत्री अमित शाह से मिले UP डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, विधानसभा चुनाव को लेकर हुई चर्चा

इसके साथ ही डिप्टी सीएम मौर्य ने लोक निर्माण विभाग को 15 सितंबर से 15 नवंबर के बीच बारिश के कारण खराब हुई सड़कों को अभियान चलाकर गढ्ढामुक्त करने का भी निर्देश दिया है. साथ ही कहा है कि नेशनल हाइवे पर जहां पर मरम्मत की जरूरत है, वहां पर मरम्मत किया जाए. जहां पर निर्माण कार्य की प्रगति धीमी है, वहां के इंजीनियर और कॉन्ट्रैक्टर को तीन दिन के अंदर नोटिस जारी किया जाए. साथ ही जहां पर ठेकेदार बेवजह कार्य विलंबित कर रहे है, उन्हें काली सूची में डाला जाए. साथ ही उन्होंने कहा कि गड्ढामुक्त अभियान के प्रगति की निरंतर जांच किया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें