UP सरकार ITI के 14536 छात्रों को देगी ओद्योगिक प्रशिक्षण के साथ स्पेशल ट्रेनिंग

Smart News Team, Last updated: Sun, 22nd Aug 2021, 9:20 AM IST
  • यूपी में आईटीआई के छात्रों को अब विशेष प्रशिक्षण देने की तैयारी की जा रही है. जिसके तहत छात्रों को विशेष औद्योगिक प्रशिक्षण दिया जाएगा. आईटीआई के 4.92 लाख सीटों पर दोहरी प्रशिक्षण व्यवस्था के तहत प्रवेश होगा.
यूपी आईटीआई के 14536 छात्रों को ओद्योगिक प्रशिक्षण के साथ विशेष प्रशिक्षण भी दिया जाएगा 

लखनऊ. उत्तर प्रदेश सरकार ने औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई) के छात्रों के लिए विशेष प्रशिक्षण की योजना तैयार की है. जिसके तहत 14356 सीटों पर प्रवेश पाने वाले छात्रों को विशेष औद्योगिक प्रशिक्षण दिया जाएगा. आईटीआई की कुल 4.92 लाख सीटें है जिस पर दोहरी प्रशिक्षण व्यवस्था (डीएसटी) के तहत प्रवेश होना है.

आईटीआई के प्रवेश प्रक्रिया चार अगस्त से शुरू हो गई है जो 28 अगस्त तक चलेगी. आईटीआई में मेरिट के आधार पर प्रवेश होना है. प्रवेश के लिए न्यूनतम उम्र 14 होनी चाहिए अधिकतम की कोई सीमा निर्धारित नही है. प्रदेश के व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग ने 14356 सीटों पर प्रवेश देने की योजना बनाई है जिसमें 305 राजकीय और 2939 निजी आईटीआई शामिल हैं. इन सीटों पर दाखिला पाने वाले सभी अभ्यार्थी 12 माह के प्रशिक्षण के साथ व्यवारिक प्रशिक्षण भी प्राप्त कर सकेंगे. 

निर्मला सीतारमण ने गंगा एक्सप्रेस-वे के लिए किया बड़ा ऐलान, CM योगी की जमकर तारीफ

बता दें कि कोर्स के समय के हिसाब से उद्योगों में प्रशिक्षण का समय तय किया जाएगा. इस योजना के तहत प्रशिक्षित होने वाले युवाओं को बेहतर रोजगार मिलने का कयास लगाया जा रहा है. इसके तहत उद्योग में अपनी जरूरत के हिसाब से कामगार तैयार करेंगे. साथ ही ओद्योगिक प्रशिक्षण को ज्यादा से ज्यादा युवाओं तक पहुँचाने के लिए ‘आईटीआई चलो अभियान’ की शुरूआत की है. इस अभियान के साथ ही डीएसटी योजना का भी प्रचार किया जा रहा है. इस अभियान को चलाने की मुख्य वजह ज्यादा से ज्यादा सीट भरना है.

कितनी सीट पर कितनी है फीस

लगभग 1,20,575 सीटें राजकीय आईटीआई में हैं. इन सीटों पर मात्र 40 रुपये मासिक फीस ली जाती है. साथ ही छात्रों को बताया जा रहा है कि दसवीं की परीक्षा पास करके जो युवा आईटीआई में प्रवेश ले रहे है उन्हें आगे सिर्फ हिंदी की पढ़ाई करके बारहवीं की डिग्री मिल जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें