यूपी में प्राइमरी स्कूलों के टीचर करेंगे वर्क फ्रॉम होम, योगी सरकार का आदेश

Smart News Team, Last updated: Tue, 20th Apr 2021, 5:57 PM IST
  • यूपी में कोरेाना का संक्रमण से तेज से फैल रहा है. इसको देखते हुए यूपी के प्राइमरी स्कूलों के शिक्षक, शिक्षामित्र और अनुदेशक वर्क फ्रॉम होम करेंगे. ये निर्देश यूपी के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने दिए हैं.
यूपी के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री ने प्राइमरी स्कूलों के शिक्षकों को घर से काम करने का निर्देश दिया.

लखनऊ. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तर प्रदेश में प्राइमरी स्कूलों के शिक्षक, शिक्षामित्र और अनुदेशक वर्क फ्रॉम होम करेंगे. कोरोना संक्रमण को देखते हुए यूपी के बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने ये निर्देश दिए हैं. इस आदेश में कहा गया है कि पंचायत चुनाव और दिए जाने वाले दूसरे जरूरी काम करने पड़ेंगे.

इस बारे में बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. सतीश चन्द्र द्विवेदी ने कहा कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए शिक्षण कार्य पहले ही बंद कर दिया था लेकिन वर्तमान स्थिति को ध्यान में रखते हुए शिक्षकों, शिक्षामित्रों और अनुदेशकों को भी वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी जाएगी. उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव और अन्य आवश्यक कार्यों में दिए जाने वाले कामों को करना होगा.

दिल्ली से आए प्रवासियों का अड्डा बना लखनऊ का बस स्टेशन, घर जाने के इंतजार में मजदूर

आपको बता दें कि इससे पहले हाईकोर्ट ने प्रदेश के सभी शिक्षण संस्थानों को 26 अप्रैल तक बंद करने का आदेश दिया है. इस आदेश में कहा गया है कि 26 अप्रैल तक प्राइवेट और सरकारी स्कूल के शिक्षक और स्टाफ की छुट्टी रहेगी. सिर्फ आवश्यक सेवाओं की ही छूट दी जाएगी. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रदेश के 5 शहरों को लाॅकडाउन लगाने का आदेश जारी किया था. योगी सरकार ने हाईकोर्ट के इस आदेश को मानने से इंकार कर दिया है.

कोरोना के कारण CISCE बोर्ड के 10वीं की परीक्षा कैंसिल, 12वीं की परीक्षा बाद में

यूपी सरकार ने इस हाईकोर्ट के इस आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई में हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी है. आपको बता दें कि बीते 24 घंटे में उत्तर प्रदेश में 28 हजार 211 कोरोना के नए मरीज मिले हैं. वहीं 10 हजार 978 लोग ठीक हो चुके हैं और 167 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें