दुर्गा पूजा को लेकर क्या है यूपी की योगी सरकार के अनलॉक 5 गाइडलाइंस में

Smart News Team, Last updated: 01/10/2020 07:55 PM IST
उत्तर प्रदेश सरकार ने अनलॉक-5 की गाइडलाइंस जारी की. जिसमें सभी प्रकार के सामूहिक धार्मिक आयोजन को अनुमति मिल गई है जबकि सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि इस बार दुर्गा पूजा का सार्वजनिक आयोजन नहीं होगा. ऐसे में दुर्गा पूजा के लिए राहत मिलने की संभावना जताई जा रही है.
अनलाॅक-5 गाइडलाइंस में सामूहिक धार्मिक आयोजनों को अनुमति दे दी गई है.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस कम होने का नाम नहीं ले रहा है. ऐसे में योगी सरकार ने आर्थिक पहिए को खोलने के लिए अनलॉक-5 की गाइडलाइंस जारी कर दी है. इस गाइडलाइंस में सरकार ने कंटेनमेंट जोन के बाहर सभी प्रकार के धार्मिक आयोजनों की अनुमति दे दी है. इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि इस बार दुर्गा पूजा का सार्वजनिक आयोजन नहीं होगा. अनलॉक-5 की गाइडलाइंस के बाद उम्मीद की जा रही है कि अब दुर्गा पूजा को राहत मिले.

अनलॉक-5 गाइडलाइंस में कहा गया है कि कंटेनमेंट जोन के बाहर सामूहिक आयोजनों में 100 व्यक्तियों की अनुमति पहले ही दी जा चुकी है. अब 200 व्यक्तियों तक सामूहिक आयोजनों में शामिल हो सकते हैं. नई गाइडलाडंस के अनुसार ये निर्देश 15 अक्टूबर 2020 से लागू होंगे. इन सामूहिक आयोजन में मास्क, सैनिटाइजिंग और थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य है. इसके लिए सरकार अलग से भी विस्तृत गाइडलाइन जारी करेगी. जिससे इन जगहों पर ज्यादा लोगो की भीड़ जमा न हो सके.

CM योगी का आदेश- कोरोना काल में होगी राम लीला, दुर्गा पूजा महोत्सवों पर रोक

नई गाइडलाइंस के अनुसार प्रदेश में सभी प्रकार के धार्मिक आयोजनों को करने की अनुमति मिल गई है जबकि हाल ही में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि कोरोना काल में दुर्गा पूजा के सार्वजनिक आयोजन पर रोक रहेगी. उन्होंने कहा था कि रामलीला के मंचन की परंपरा नहीं टूटेगी लेकिन दुर्गा पूजा का सामूहिक आयोजन नहीं होगा. रामलीला के मंचन में कोरोना के नियमों के तहत 100 से ज्यादा लोग शामिल नहीं होंगे. 

कोरोना अनलॉक 5 गाइडलाइंस जारी, जानिए यूपी में क्या खुलेगा, क्या रहेगा बंद

आपको बता दें कि 17 अक्टूबर से नवरात्रि का पर्व शुरू हो रहा है. सीएम योगी के आदेश के अनुसार सभी लोग घरों में मूर्तियां स्थापित कर सकते हैं. अब इस नई गाइडलाइंस के बाद दुर्गा पूजा के सार्वजनिक आयोजन को राहत मिलने की संभावना जताई जा रही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें