ग्राम रोजगार सेवकों को नौकरी से नहीं निकालेगी यूपी सरकार, दूसरी पंचायत में तैनाती देगी

Anurag Gupta1, Last updated: Tue, 5th Oct 2021, 5:12 PM IST
  • यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 600 ग्राम रोजगार सेवकों को नौकरी से नहीं निकालने का फैसला किया है. 600 ग्राम पंचायतें अब नगर निकाय का हिस्सा बन गई हैं जिसकी वजह से वहां तैनात रोजगार सेवकों की नौकरी पर खतरा मंडरा रहा था.
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मनरेगा सम्मेलन मंच से गांव में काम कर रहे रोजगार सेवकों को राहत दी है. असल में 600 ग्राम पंचायतें नगर निकाय का हिस्सा हो गई हैं. जिस वजह से 600 रोजगार सेवकों को निकालने को लेकर कवायद चल रही थी. लेकिन योगी सरकार के फैसले ने रोजगार सेवकों को राहत दी है. योगी सरकार ने 415 लोगों को दूसरी पंचायत में नौकरी दी है बचें हुए लोगों को भी जल्द ही तैनाती दी जाएगी. सरकार ने किसी को नौकरी से नहीं निकालने का फैसला लिया.

मुख्ममंत्री ने कहा कि राज्य सरकार मनरेगा के तहत और काम को जोड़ने का प्रयास कर रही है. रोजगार सेवक के विषय पर कहा यदि किसी रोजगार सेवक के रिश्तेदार उस क्षेत्र के प्रधान बन गए हैं तो उन्हें काम से निकाला नहीं जाएगा बस उनका तबादला किसी और ग्राम पंचायत में कर दिया जाएगा.

PM Modi Lucknow Live: मोदी का अखिलेश पर निशाना- पहले की सरकार गरीबों के मकान में अड़ंगा लगाती थी

सरकार के काम गिनाएं:

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया वर्ष 2020-21 में 12622 करोड़ रुपये खर्च कर 1.16 करोड़ रोजगार सृजन किया. उत्तर प्रदेश देश का 39.46 करोड़ मानव दिवस का सृजन करने वाला पहला राज्य बना. उत्तर प्रदेश में 42 लाख लोगों को पीएम आवास दिया गया. इसमें भी उत्तर प्रदेश शीर्ष स्थान पर रहा. चार साल में 103.27 करोड़ मानव दिवस सृजित किया गया, जिसमें से अकेले वर्ष 2020-21 में ही 39.46 करोड़ में किया गया. पिछले वर्ष 26 जून को रिकार्ड बना एक दिन में 62.25 लाख मजदूरों को मनरेगा के तहत रोजगार मिला. 7.79 परिवारों को 100 दिन मनरेगा के तहत काम मिला. इसके पहले की सरकारों में ऐसा कभी नहीं हुआ. यूपी सरकार लगातार किसानों के हित में काम कर रही है किसानों को सिंचाई और खेत तालाब योजना का लाभ पहुंचाया. सरकार ने योजनाबध्द तरीके से 2020-21 में 25 नदियों को मनेरगा के तहत पुनर्जीवित किया.

अपर आयुक्त सहित कई लोगों को सम्मानित किया गया:

योगी आदित्यनाथ ने 100 दिन काम करने वाले दो कामगारों, अपर आयुक्त मनरेगा व कई अन्य लोगों को बेहतर काम करने के लिए सम्मानित किया. कोरोना काल में अपर आयुक्त मनरेगा योगेश कुमार ने काफी लोगों को रोजगार से जोड़ा जिसके लिए मुख्यमंत्री ने सम्मानित किया. ग्राम्य विकास मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ ‘‘मोती सिंह’’ ने सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की सराहना की.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें