लखनऊ के 25 वैज्ञानिक अमेरिका की पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस जनरल में शामिल

Smart News Team, Last updated: Tue, 3rd Nov 2020, 9:54 PM IST
अमेरिका के पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस बायोलॉजी जनरल में इस बार देश के 1500 वैज्ञानिकों के शोधो को जगह दिया गया है. जिसमे से 25 लखनऊ के डॉक्टर, इंजीनियर और वैज्ञानिकों का नाम भी शामिल है.
अमेरिका की पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस जनरल 

अमेरिका के पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस बायोलॉजी जनरल में वैज्ञानिक, डॉक्टर, इंजिनियर और मौलिक विज्ञानं क्षेत्र में बेहतरीन काम करने वाले 1500 वैज्ञानिको को स्थान मिला है. इस जनरल में उन्ही वैज्ञानिको को स्थान में मिलता है जो अपने क्षेत्र में बेहतरीन शोध और सराहनीय कार्य किया हो. इस बार इस जनरल में लखनऊ के 25 डॉक्टरो और शोधार्थियों का नाम शामिल हुआ है.

इस लाइब्रेरी में लखनऊ के 25 बड़े नाम शामिल है. जिसमें पीजीआई के चार डॉक्टर और केजीएमयू तीन डॉक्टरों के शोध भी प्रकाशित किया गया है. इन्ही के साथ लखनऊ विश्वविद्यालय के तीन प्रोफेसर के शोध, सीडीआरआई के छह वैज्ञानिकों के सराहनीय कार्य और आईआईटीआर के चार वैज्ञानिको के शोध को भी पब्लिश किया गया है.

लखनऊ: KGMU में बुजुर्गों को फ्री में लगाए जाएंगे नकली दांत

पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस बायोलॉजी नामक जनरल में सभी शोधों को डॉ जॉन पिए लोननिदिस के के नेतृत्व में किया गया।.ये सयुक्त राज्य अमेरिका के कलिफ़ोर्निया के प्रसिद्ध स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक है. इन्होने तीन वैज्ञानिकों का नेतृत्व करते हुए 16 अकबर 2020 को इस पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस बायोलॉजी जनरल में देश के 1500 अध्ययन को प्रकाशित किया. इस जनरल में विश्व के एक लाख से भी ज्यादा वैज्ञानिको और चिकित्सा विज्ञानं के क्षेत्र के साथ साथ इंजीनिरिंग व अन्य मौलिक विज्ञानं के क्षेत्र में सर्वोच्च कार्य करने वाले डॉ फीसदी वैज्ञानिको का चयन करने उनके कार्यों और शोधो को प्रकाशित किया गया है.

एलयू में क्रिकेट मैच के दौरान आपस में भिड़े प्रोफेसर व कर्मचारी, वीडियो वायरल

पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ साइंस बायोलॉजी जनरल की स्थापना 2000 में हुई थी. जिसमे 180 देशों के बेहतरीन शोधों को प्रकाशित किया जाता है. इस लाइब्रेरी के जनरल में वैज्ञानिक, डॉक्टर, इंजीनेअरिंग और मौलिक विज्ञानं में सारहीन काम करने वालों को स्थान दिया जाता है. इस बार प्रकाशित जनरल में देश के 1500 वैज्ञानिको के शोध को प्रकाशित किया गया है.

BSP सांसद अफजाल अंसारी की पत्नी का निर्माण अवैध, जिला प्रशासन ने अपनाया कड़ा रुख

सीबीएसई 10वीं और 12वीं के छात्र अब ऑनलाइन करें तैयारी

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें