आर्थिक गतिविधियों में तेजी के लिए UP सरकार नए उद्योगों की स्थापना पर काम कर रही

Smart News Team, Last updated: 01/12/2020 12:05 AM IST
  • उत्तर प्रदेश के मुख्य सूचना सचिव नवनीत सहगल ने राज्य में बढ़ रहे उद्योगों की जानकारी देते हुए बताया कि योगी सरकार राज्य में नए उद्योगों को स्थापित करने के लिए नए-नए कदम उठा रही है. जिसके लिए तेजी से कार्य किया जा रहा है.
योगी सरकार यूपी में नए उद्योगों की स्थापना तेजी से चल रहा काम, प्रदेश सुचना प्रमुख नवनीत सहगल ने दी जानकारी

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्य सुचना सचिव नवनीत सहगल ने जानकारी देते हुए बताया कि आर्थिक गतिविधियों में अधिक तेजी लाने के लिए यूपी सरकार लगातार प्रयासरत है. प्रदेश में रोजगार के सृजन के लिए योगी सरकार ने आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा दे रही है. साथ ही नई एमएसएमई इकाई भी खोलने जा रही है. सूचना सचिव ने आगे बताया कि ओहले से चल रही एमएसएमई इकाइयों के लिए आत्मनिर्भर पैकेज दिया जा चुका है. साथ ही विभागों से भुगतान और जीएसटी रिफंड में किसी तरह कोई समस्या का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए एमएसएमई साथी ऐप शुरू किया गया है.

पानी की बर्बादी पर सख्त योगी सरकार, जल्द आएगा प्रस्ताव, ना मानने पर जुर्माना

मुख्य सूचना सचिव नवनीत सहगल ने आग बताया कि जीएसटी रिफंड और विभागों से भुगतान जैसे सभी समस्याए आने पर वो अपनी समस्या को एप पर विवरण दर्ज करा सकते है. सभी कि समस्याओं का निदान जल्द से जल्द किया जाएगा. यूपी सरकार ने पुराणी इकाइयों कि पूंजी कि समस्या से निपटने के लिए आत्मनिर्भर पैकेज में 4.37 लाख इकाईयों को 11,062 करोड़ रुपये के ऋण बैंको से सहभागिता स्थापित कर बांटे जा रहे है. इस तरह से योगी सरकार उत्तर प्रदेश में नए उद्योगों कि स्थापना के लिए तेजी कार्य कर रही है. यहीं प्रदेश सरकार बैंको के साथ समन्वय स्थापित करके नए उद्योगों की स्थापना भी करा रही है.

UP में अनलॉक समीक्षा के दौरान CM योगी ने कहा-कोरोना से बचाव के लिए सावधानी बरतें

सरकार ने प्रदेश में नए उद्योगों की स्थापना के लिए 22 विभागों में उद्योग से सम्बन्धित नीतियां बदली है साथ ही उनमे संसोधन भी किया है. सरकार की तरफ से नगर निगम लखनऊ द्वारा पब्लिक बांड जारी किया गया था. जो ओवर सब्सक्राइब हुए है और इसकी पब्लिक लिस्टिंग 2 दिसम्बर को मुंबई स्टॉक एक्सचेंज में होगा. यूपी में कोरोना महामारी के बीच करीब 52 विदेशी कम्पनिया 45000 करोड़ का निवेश करने के लिए प्रस्ताव भेज चुकी है. जिसपर अभी कार्यवाई चल रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें