यूपी में कोई नहीं रहेगा भूखा, हर जिले में खुलेगा सामुदायिक भोजनालय

Smart News Team, Last updated: 04/05/2021 06:33 PM IST
  • मुख्यमंत्री ने कोविड-19 महामारी के प्रबंधन की समीक्षा करते हुए कहा कि आंशिक कोरोना कर्फ्यू के कारण कहीं भी किसी श्रमिक, ठेला, रेहड़ी व्यवसायी, दिहाड़ी मजदूर को भोजन की समस्या न हो, ऐसे में 'सामुदायिक भोजनालयों' के संचालन की आवश्यकता है.
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 महामारी के प्रबंधन की समीक्षा बैठक की.

लखनऊ- देश के साथ-साथ उत्तर प्रदेश में भी कोरोना की दूसरी लहर का कहर जारी है. कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में लगातार तेजी से बढ़ोतरी जारी है. इस बीच उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए राहत की खबर है. दरअसल, मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में सामुदायिक भोजनालयों के संचालन की जरूरत पर जोर देते हुए निर्देश दिया कि कोरोना कर्फ्यू के दौरान कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे.

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता के मुताबिक, मुख्यमंत्री ने कोविड-19 महामारी के प्रबंधन की समीक्षा करते हुए कहा कि आंशिक कोरोना कर्फ्यू के कारण कहीं भी किसी श्रमिक, ठेला, रेहड़ी व्यवसायी, दिहाड़ी मजदूर को भोजन की समस्या न हो, ऐसे में 'सामुदायिक भोजनालयों' के संचालन की आवश्यकता है.

CM योगी का बड़ा फैसला, पत्रकारों को कोरोना वक्सीनशन में मिलेगी प्राथमिकता

बताते चलें कि कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर राज्य सरकार अलर्ट पर है. इसी के तहत मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि लखनऊ में एचएएल द्वारा 250 बेड का अस्पताल जल्द ही शुरू हो जाएगा. स्वास्थ्य विभाग द्वारा यहां के लिए मानव संसाधन की व्यवस्था कराई जाए. उन्होंने आगे कहा कि इसी तरह लखनऊ और वाराणसी में डीआरडीओ के सहयोग से सभी सुविधाओं से युक्त नया कोविड अस्पताल भी तैयार किया गया है.

यूपी के CM योगी को जान से मारने की धमकी, वाट्सएप पर लिखा- सीएम के पास बस 5 दिन

लखनऊ सर्राफा बाजार में बढ़त के साथ खुला सोना, चांदी रही स्थिर, मंडी भाव

इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला- 60 दिन की पैरोल या जमानत पर कैदियों को करें रिहा

पेट्रोल डीजल 4 मई का रेट: लखनऊ, आगरा, मेरठ, वाराणसी, प्रयागराज, गोरखपुर, कानपुर में बदले तेल की कीमत

यूपी में जरूरी सामान और सर्विस के लिए जारी होंगे ई-पास, जानिए डिटेल्स

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें