योगी सरकार का लव जिहाद पर अध्यादेश आज से यूपी में लागू, राज्यपाल ने दी मंजूरी

Smart News Team, Last updated: 28/11/2020 11:15 AM IST
  • योगी सरकार द्वारा यूपी में लव जिहाद पर रोक लगाने के लिए लाए गए अध्यादेश पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मंजूरी दे दी है. उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 आज से यूपी में लागू. 
लव जिहाद के अध्यादेश को यूपी की राज्यपाल ने दी मंजूरी.

लखनऊ. यूपी में लव जिहाद पर रोक लगाने के लिए योगी सरकार द्वारा लाए गए अध्यादेश ‘उत्तर प्रदेश विधि विरुद्ध धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश, 2020’ को राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मंजूरी दे दी है. इसी के साथ यह अध्यादेश आज से यूपी में लागू हो गया है. योगी सरकार की कैबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद इसे बुधवार को राज्यपाल से मंजूरी के लिए भेजा गया था. राज्यपाल ने आज यूपी सरकार के धर्मांतरण से संबंधित बिल को मंजूरी दे दी है. 

इस अध्यादेश को विधानमंडल के दोनों सदनों से 6 महीने के अंदर पास करना होगा. माना जा रहा है कि विधानमंडल के आगामी शीतकालीन सत्र में इससे संबंधित बिल योगी सरकार द्वारा पेश किया जा सकता है. यह प्रस्तावित बिल विधानसभा और विधानपरिषद से पास होने के बाद फिर राज्यपाल के पास अनुमोदन के लिए भेजा जाएगा. राज्यपाल की मंजूरी के बाद यह विधेयक कानून बन जाएगा. सदन में इस बिल पर हंगामा होना तय माना जा रहा है. सदन के पटल पर विपक्ष सवाल कर सकता है कि कौन सी आपात स्थिति थी कि लव जिहाद को लेकर अध्यादेश लाना पड़ा. 

लव जिहाद अध्यादेश: यूपी में धर्म परिवर्तन करके कर सकते हैं शादी, जानें नया नियम

अध्यादेश के मुताबिक अगर कोई जबरन, मिथ्या, बलपूर्वक, प्रलोभन और उत्पीड़ित कर धर्मपरिवर्तन कराता है तो यह अपराध गैरजमानती होगा. ऐसे स्थिति में प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट के न्यायालय में सुनवाई की जाएगी. सिर्फ शादी के लिए अगर लड़की का धर्म बदला गया तो न केवल ऐसी शादी अमान्य घोषित कर दी जाएगी, बल्कि धर्म परिवर्तन कराने वालों को दस साल तक जेल की सजा भी भुगतनी पड़ सकती है. अध्यादेश के अनुसार आरोपी को बेगुनाही का सबूत देना होगा कि उसने अवैध या जबरन तरीके से धर्म परिवर्तन नहीं कराया है, धर्म परिवर्तन लड़की को उत्पीड़न करके नहीं किया गया, इसे साबित करने का जिम्मा आरोपी व्यक्ति पर ही होगी.

UP: योगी का गैरकानूनी धर्म परिवर्तन अध्यादेश,बेगुनाही का सबूत आरोपी को देना होगा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें