लखनऊ: एक ही सड़क बनवाने के लिए तीन विभाग आपस में उलझे

Smart News Team, Last updated: Sat, 25th Dec 2021, 8:40 AM IST
  • लखनऊ में कुछ सड़कें ऐसी हैं, जिन्हें बनाने के लिए तीन जिम्मेदार विभाग आपस में उलझ रहे हैं. एलडीए ने सड़क निर्माण शुरू करा चुका है तो लोक निर्माण विभाग ने भी इसके लिए टेंडर करवा कंपनी से अनुबंध कर लिया है. इधर, नगर निगम ने भी इसे अपना मानते हुए निर्माण प्रस्ताव बनाया है. इस बीच एलडीए की ओर से शुरू कराए गए काम को बुधवार लोनिवि इंजीनियरों ने पहुंचकर काम रुकवा दिया.
लखनऊ: एक ही सड़क बनवाने के लिए तीन विभाग आपस में उलझे( सांकेतिक फोटो )

लखनऊ. उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में एक तरफ शहर की 400 से अधिक सड़कें अभी भी खस्ताहाल हैं, लेकिन कुछ सड़कें ऐसी हैं, जिन्हें बनाने के लिए तीन जिम्मेदार विभाग जूझ रहे हैं. ऐसी ही एक सड़क रायबरेली रोड एल्डिको उद्यान द्वितीय से डेंटल हॉस्पिटल, डीपीएस स्कूल होते हुए संस्कृति एनक्लेव तक जो यहां से अंबेडकर विश्वविद्यालय की ओर मुख्य मार्ग तक. इस सड़क का निर्माण एलडीए ने शुरू करा दिया है. अब पता चला है कि इसी सड़क का टेंडर लोक निर्माण विभाग भी करा चुका है.

लोनिवि के प्रांतीय खंड के अधिशासी अभियंता मनीष वर्मा ने 20 दिसंबर को एलडीए को एक पत्र लिखा है. मुख्य अभियंता को लिखे पत्र में लिखा है कि जिस सड़क को एलडीए बना रहा है, वह सड़क लोक निर्माण विभाग की है. नगर निगम ने इसे लोनिवि को हैंड ओवर किया है. शासन ने 10 अगस्त 2021 को इसके निर्माण की सहमति दी थी, जिसके लिए बजट भी जारी किया था. नगर निगम ने विवाद सामने आने के बाद उसने अपनी योजना स्थगित कर दी.

लखनऊ का हर कोना सुंदर दिखेगा, 857 पार्क में सौंदरियाकरण का काम शुरू

चार किमी बननी है सड़क

लोक निर्माण विभाग ने करीब चार किमी लंबी इस सड़क के लिए 4.97 करोड़ रुपए बजट मंजूर किया है. जबकि एलडीए ने सड़क के साथ- साथ नजदीक की झील के जीर्णोद्वार के लिए करीब चार करोड़ रुपए स्वीकृत किया है. इसके तहत एलडीए यहां सड़क बना रहा है.

एलडीए को लिखा पत्र

सड़क निर्माण के लिए लोक निर्माण विभाग ने एलडीए को जो पत्र लिखा है, उसमें लिखा है कि इससे शासकीय बजट का बड़ा दुरुपयोग होगा, क्योंकि लोक निर्माण विभाग कंपनी से अनुबंध कर चुका है. किसी भी प्रकार की शासकीय क्षति होती है तो इसके लिए आप सीधे तौर पर उत्तरदायी होंगे. लोनिवि के अधिशासी अभियंता ने साफ लिखा है कि जब सड़क लोनिवि को हैंडओवर हो गई थी तो बनाने से पहले इसकी एनओसी क्यों नहीं ली गई.

मनीष वर्मा, अधिशासी अभियंता, लोक निर्माण विभाग के अधिकारी ने बताया कि 5 जो सड़क एलडीए बना रहा है, उसे कई वर्ष पहले ही वह नगर निगम को हैंड ओवर कर चुका है. नगर निगम ने पिछले वर्ष इसे लोनिवि को हैंड ओवर कर दिया था. एलडीए ने सड़क के लिए लोनिवि से न एनओसी ली, न जानकारी दी. इसके चलते काम रुकवा दिया गया है.

आलोक कुमार, सहायक अभियंता, एलडीए के अधिकारी ने बताया कि एलडीए ने 2020 में ही इसका प्रस्ताव बनाया था. कोरोना की वजह से सड़क नहीं बन पाई थी. अब बनाई जा रही है. इसके साथ यहां झील का सुंदरीकरण भी किया जा रहा है. एलडीए का प्रस्ताव स्वीकृत होने के बाद यह सड़क लोनिवि को हैंडओवर हुई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें