चुनाव प्रचार जोरों पर, सुबह हाथों में कमल और शाम को सिर पर लाल टोपी

Sumit Rajak, Last updated: Tue, 15th Feb 2022, 8:47 AM IST
  • उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण का मतदान हो चुका है. तीसरे चरण का जनपद में मतदान होना है. चारों विधान सभा क्षेत्रों में चुनाव प्रचार इस समय चरम पर है. सुबह से लेकर देररात्रि तक गाड़ियों के काफिले इस से उधर दौड़ रहे हैं. इस समय चल रहे चुनाव के प्रचार के दौरान देखने को मिल रहा है कि युवाओं की जो टोली सुबह की शिफ्ट में भगवा पहने, हाथों में भाजपा के लिए झंडे लेकर चल रही थी. वहीं शाम को सर पे लाल टोपी पहनकर सपा के लिए नारे लगा रही है.
प्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में दूसरे चरण का मतदान हो चुका है. तीसरे चरण का जनपद में मतदान होना है. चारों विधान सभा क्षेत्रों में चुनाव प्रचार इस समय चरम पर है. सुबह से लेकर देररात्रि तक गाड़ियों के काफिले इस से उधर दौड़ रहे हैं.  प्रत्याशी अपनी पूरी ताकत झोंक रहे हैं और इस पूरे माहौल में चांदी उन युवाओं की हो रही है जो अभी राजनीति की नर्सरी में ककहरा सीखने निकले हैं. इनका दोगुना फायदा इस तरह से हो रहा है कि एक तो इनके पहचान मिल रही है. साथ ही दूसरा कि कुछ खर्चा पानी भी निकल आता है.

 जी, हां इस समय चल रहे चुनाव के प्रचार के दौरान यह देखने को मिल रहा है कि युवाओं की जो टोली सुबह की शिफ्ट में भगवा पहने, हाथों में भाजपा के लिए झंडे लेकर चल रही थी. वहीं शाम को सर पे लाल टोपी पहनकर सपा के लिए नारे लगा रही है. हाल ही में एलयू की सरस्वती वाटिका के सामने भी छात्रों की ऐसी ही एक टोली यह टाइम टेबल बनाती देखी कि कब, कहां, किस ने साथ प्रचार करने जाना है इनकी बातों कुछ तरह से थीं. ‘दोपहर में 1 बजे फलां नेता ने बुलाया है प्रचार करने चलना है. और शाम को सब लोग आ जाना...' इस दौरान टोली के दूसरे सदस्यों ने पूछ लिया भैया मिलेगा क्या...' जवाब था अम्मां तुम चलो तो, खर्चे-पानी का इंतजाम हो जाएगा…'

UP चुनाव 2022: लखनऊ में वोटरों से ज्यादा वाहन, 5 सालों में 70 हजार बढ़े मतदाता

इस समय सभी प्रत्याशी सुबह सात बजे तक घर से बाहर निकल जाते है. प्रत्याशियों का कार्यक्रम एक दिन पहले ही तय करदिया जाता है. किस क्षेत्र में प्रत्याशी को जाना है और समर्थकों की गाड़ियां कौन से क्षेत्र में जाएंगी. कुछ स्थानों पर तो घर-घर जाकर वोट मांग रहे हैं तो कुछ स्थानों पर नुक्कड़ सभाएं जैसी हो रही है. प्रत्याशी गांव में पहुंचकर समस्याओं पर भी निगाह डाल रहे हैं. चुनाव के बाद समस्याओं का समाधान कराने का भी आश्वासन दिया जा रहा है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें