फार्मेसी की डिग्री के रजिस्ट्रेशन को अब चुकानी होगी 3 गुना ज्यादा फीस, जानें

Smart News Team, Last updated: Mon, 5th Jul 2021, 12:37 PM IST
  • उत्तर प्रदेश में फार्मेसी की डिग्री व डिप्लोमा लेने वाले छात्रों को उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल में पंजीकरण कराने के लिए अतिरिक्त शुल्क चुकाना होगा. पंजीकरण शुल्क में लगभग तीन गुना वृद्धि की गई है. ये बढ़े हुए हुए शुल्क पहली जुलाई से लागू कर दी गई है.
उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल की बढ़ी हुई शुल्क तालिका

लखनऊ:उत्तर प्रदेश में फार्मेसी की डिग्री व डिप्लोमा धारकों को उत्तर प्रदेश फॉर्मेसी काउंसिल में पंजीकरण के लिए अब पहले से ज्यादा शुल्क चुकाना होगा. पंजीकरण शुल्क में लगभग तीन गुना वृद्धि करने के साथ ही नवीनीकरण के शुल्क में भी वृद्धि की गई है. ये बढ़े हुए हुए शुल्क पहली जुलाई से लागू कर दी गई है.

फार्मेसी की डिग्री व डिप्लोमा लेने वाले छात्रों को उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल में पंजीकरण अनिवार्य है. बिना पंजीकरण के प्रशिक्षित फार्मासिस्ट ना ही सरकारी नौकरी में जा सकतें हैं और ना ही कोई मेडिकल स्टोर चला सकतें हैं. नतीजन हजारों की संख्या में हर वर्ष फर्मेसी के छात्रों को पंजीकरण कराना पड़ता है. जिसमें एक बड़ी संख्या बेरोजगारों की है. जिन पर बढ़े हुए शुल्क का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा.

 

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश फार्मासिस्ट काउंसिल में पंजीकरण के लिए अभी तक 500रुपए चुकाने पड़ते थे. लेकिन अब इसे बढ़ा कर 1500 रुपए कर कर दिया गया है. जबकि नवीनीकरण के लिए पहले 500 रुपए शुल्क तय थे. अब इसे बढ़ाकर 1000 रुपए साथ ही विलंब शुल्क को 200 रुपए से बढ़ा कर 500 रुपए कर दिया गया है. वहीं ट्रांसफर शुल्क 2000 से बढ़ाकर सीधे 5000 किया गया है. अतिरिक्त शैक्षिक योग्यता के जुड़ने पर 500 रुपए चुकाने होंगे जबकि यह शुल्क पहले 100 रुपए था. वैसे ही डुप्लीकेट पंजीकरण प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए 1000 रुपए से शुल्क बढ़ाकर 1500 कर दिया गया है. वहीं पर ग्रीन कॉर्ड के लिए जहां 300 रुपए शुल्क था उसे बढ़ाकर अब 500 रुपए किया गया है.

उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल के पूर्व चेयरमैन सुनील यादव ने इन बढ़ी हुई शुल्क पर कहा कि फार्मासिस्ट काउंसिल के पास प्रयाप्त बजट है. सवा लाख फार्मासिस्ट जो काउंसिल में पंजीकृत हैं, उनसे पर्याप्त आय काउंसिल को होती है. इसलिए बेरोजगार फार्मासिस्टों पर शुल्क का बोझ बढ़ाना गैर जरूरी है.

UPSSSC PET 2021: एग्जाम के लिए यूपी के सभी 75 जिलों में होंगे परीक्षा केंद्र

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें