लखनऊ में प्रदूषण का बढ़ता स्तर, जिलाधिकारी ने की क्षेत्रीय अधिकारी पर कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: Sat, 7th Nov 2020, 2:33 PM IST
लखनऊ में प्रदूषण को नियंत्रण के लिए यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी का वेतन उनकी लापरवाही के कारण रोक दिया गया है. इस संबंध में अधिकारी को 2 दिन के अंदर जिलाधिकारी को स्पष्टीकरण देने के लिए भी कहा गया है.
लखनऊ में प्रदूषण को नियंत्रित नहीं कर पाने के कारण प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी को नोटिस जारी किया गया.

लखनऊ. उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी का वेतन उनकी लापरवाही के कारण तत्काल प्रभाव से रोक दिया गया है. जिलाधिकारी ने क्षेत्रीय अधिकारी को 2 दिन के अंदर स्पष्टीकरण देने के लिए भी कहा है. यदि अधिकारी के द्वारा 2 दिन के अंदर स्पष्टीकरण प्रस्तुत नहीं किया गया तो उनके विरुद्ध नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही की जाएगी.

गौरतलब है कि लखनऊ में इन दिनों प्रदूषण दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है जो कि एक चिंता का विषय है.इसके लिए क्षेत्रीय अधिकारी को प्रदूषण पर नियंत्रण पाने के लिए निर्देशित किया गया था. लेकिन उनके द्वारा इस संबंध में न तो कोई बैठक की गई और न ही फील्ड विजिट किया गया. इसके बाद लखनऊ जिलाधिकारी के द्वारा उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है.

लखनऊ बना देश का तीसरा सबसे प्रदूषित शहर

इस नोटिस में जिलाधिकारी द्वारा क्षेत्रीय अधिकारी के वेतन को रोकने के साथ उनसे अपना काम ठीक तरीके से नहीं करने के कारण स्पष्टीकरण भी मांगा गया है. नोटिस में साफ तौर पर कहा गया है कि यदि 2 दिन के अंदर उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए उन्होंने क्यों कुछ नहीं किया तो उनके ऊपर आवश्यक कार्यवाही की जाएगी.

7 नवंबर: लखनऊ कानपुर आगरा वाराणसी मेरठ में आज वायु प्रदूषण एक्यूआई लेवल

इस संबंध में उन्होंने मुख्य कोषाधिकारी, आदर्श कोषागार, कलेक्ट्रेट लखनऊ को भी निर्देशित किया है कि अग्रिम आदेशों तक क्षेत्रीय अधिकारी का वेतन आहरित नहीं किया जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें